Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 1 min read

आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है

आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
जिसे हम पिछले सात दशकों से
सुनते आ रहे हैं ।
लेकिन वास्तव में —
भारत कभी आज़ाद हुआ ही नहीं ।
अगर मैं दूसरे शब्दों में कहूँ तो —
हमने 1947 में सिर्फ़ ये तय किया था
कि अब हमारा शोषण विदेशी नहीं
इसी देश के लोग करेंगे ।

— सूर्या

1 Like · 158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बोल
बोल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*पहले वाले  मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
*पहले वाले मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जाकर वहाँ मैं क्या करुँगा
जाकर वहाँ मैं क्या करुँगा
gurudeenverma198
देवो रुष्टे गुरुस्त्राता गुरु रुष्टे न कश्चन:।गुरुस्त्राता ग
देवो रुष्टे गुरुस्त्राता गुरु रुष्टे न कश्चन:।गुरुस्त्राता ग
Shashi kala vyas
निजी कॉलेज/ विश्वविद्यालय
निजी कॉलेज/ विश्वविद्यालय
Sanjay ' शून्य'
*समझो मिट्टी यह जगत, यह संसार असार 【कुंडलिया】*
*समझो मिट्टी यह जगत, यह संसार असार 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
2589.पूर्णिका
2589.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैंने नींदों से
मैंने नींदों से
Dr fauzia Naseem shad
मेरी दुनियाँ.....
मेरी दुनियाँ.....
Naushaba Suriya
शीत की शब में .....
शीत की शब में .....
sushil sarna
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
Paras Nath Jha
There are only two people in this
There are only two people in this
Ankita Patel
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
शेखर सिंह
नज़्म
नज़्म
Shiva Awasthi
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
AMRESH KUMAR VERMA
बाल कहानी- डर
बाल कहानी- डर
SHAMA PARVEEN
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
मुस्कुराते रहो
मुस्कुराते रहो
Basant Bhagawan Roy
प्रेम 💌💌💕♥️
प्रेम 💌💌💕♥️
डॉ० रोहित कौशिक
प्रथम दृष्टांत में यदि आपकी कोई बातें वार्तालाभ ,संवाद या लि
प्रथम दृष्टांत में यदि आपकी कोई बातें वार्तालाभ ,संवाद या लि
DrLakshman Jha Parimal
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आज सबको हुई मुहब्बत है।
आज सबको हुई मुहब्बत है।
सत्य कुमार प्रेमी
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
Phool gufran
लोककवि रामचरन गुप्त मनस्वी साहित्यकार +डॉ. अभिनेष शर्मा
लोककवि रामचरन गुप्त मनस्वी साहित्यकार +डॉ. अभिनेष शर्मा
कवि रमेशराज
__________________
__________________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"चारपाई"
Dr. Kishan tandon kranti
आज़ादी का जश्न
आज़ादी का जश्न
Shekhar Chandra Mitra
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
Amit Pathak
■ कन्फेशन
■ कन्फेशन
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...