Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

एक आज़ाद परिंदा

बुलंदियां छूने में
नाकाम एक परिंदा
अहले-चमन में
बदनाम एक परिंदा…
(१)
पूरी कोशिश तो की
हमने परवाज़ की
लेकर मरा होंठों पर
मुस्कान एक परिंदा…
(२)
रेंगते हुए कीड़ों में
और क्या पा सकता
अब इससे बेहतर
मुकाम एक परिंदा…
(३)
आंसुओं में अपने
ख़ून को मिलाकर
लिखता रहा ताउम्र
दास्तान एक परिंदा…
(४)
सो गया चुपचाप
धरती की गोद में
आज ताकता हुआ
आसमान एक परिंदा…
(५)
उसूलों की दुनिया में
जज़्बात के पीछे
हो गया फिर से
कुर्बान एक परिंदा…
(६)
मौत की वादी में
ज़िंदादिली से जीकर
ज़िंदगी का दे गया
पैग़ाम एक परिंदा…
(७)
आख़िरी हिचकी तक
अपने गुलिस्तां का
चाहता था कोई और
अंज़ाम एक परिंदा…
(८)
अपनों का जो मिलता
साथ उसे थोड़ा-सा
ख़्वाबों को चढ़ा देता
परवान एक परिंदा…
(९)
दिल की तसल्ली के लिए
फ़िलहाल इतना काफ़ी
अपने आप पर नहीं
पशेमान एक परिंदा…
(१०)
ख़ुद को मिला ज़हर
गीतों में लौटाकर
लेता रहा रक़ीबों से
इंतक़ाम एक परिंदा…
#गीतकार
शेखर चंद्र मित्रा
#आजाद_परिंदा #आजादी #संघर्ष
#स्वतंत्रता #मुक्ति #उड़ान #चुनौती
#अभियान #लक्ष्य #पंछी #चिड़िया
#नौजवान #आशिक #शायर #कवि
#हयात_की_तल्खियां #आत्मकथा
#एक_पागल_की_डायरी #कसक
#NotesOfAMadMan #diary

64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बरसात के दिन
बरसात के दिन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दया के पावन भाव से
दया के पावन भाव से
Dr fauzia Naseem shad
मुझको चाहिए एक वही
मुझको चाहिए एक वही
Keshav kishor Kumar
बीज अंकुरित अवश्य होगा (सत्य की खोज)
बीज अंकुरित अवश्य होगा (सत्य की खोज)
VINOD CHAUHAN
*
*"संकटमोचन"*
Shashi kala vyas
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को समर्पित
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को समर्पित
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
दो दोस्तों की कहानि
दो दोस्तों की कहानि
Sidhartha Mishra
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
Indu Singh
dream of change in society
dream of change in society
Desert fellow Rakesh
2863.*पूर्णिका*
2863.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आईना
आईना
Dr Parveen Thakur
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
प्रिय भतीजी के लिए...
प्रिय भतीजी के लिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तीन मुट्ठी तन्दुल
तीन मुट्ठी तन्दुल
कार्तिक नितिन शर्मा
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
🙏
🙏
Neelam Sharma
मंज़िल मिली उसी को इसी इक लगन के साथ
मंज़िल मिली उसी को इसी इक लगन के साथ
अंसार एटवी
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
नारी का क्रोध
नारी का क्रोध
लक्ष्मी सिंह
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
परीक्षा है सर पर..!
परीक्षा है सर पर..!
भवेश
चाहती हूँ मैं
चाहती हूँ मैं
Shweta Soni
दुनियाँ में सबने देखा अपना महान भारत।
दुनियाँ में सबने देखा अपना महान भारत।
सत्य कुमार प्रेमी
कर्मों के परिणाम से,
कर्मों के परिणाम से,
sushil sarna
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Sanjay ' शून्य'
World Earth Day
World Earth Day
Tushar Jagawat
पिया मोर बालक बनाम मिथिला समाज।
पिया मोर बालक बनाम मिथिला समाज।
Acharya Rama Nand Mandal
मोहब्बत
मोहब्बत
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...