Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Apr 2023 · 1 min read

आज़ादी की क़ीमत

वह आज़ादी
जो हमें मिली थी
गोलियां खाने के बाद!
वह आज़ादी
जो हमें मिली थी
गालियां सुनने के बाद!!
क्या ऐसे ही
हम खो देंगे अब
सोचकर देना ज़वाब!
वह आज़ादी
जो हमें मिली थी
सब कुछ गंवाने के बाद!!
#politics #Opposition_Unity
#youths #protest #आंदोलन
#विपक्षीदल #राजनीति #हल्ला_बोल
#सियासत #लोकतंत्र #धर्मनिरपेक्ष

Language: Hindi
304 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
Wakt ke girewan ko khich kar
Wakt ke girewan ko khich kar
Sakshi Tripathi
मन
मन
Ajay Mishra
वीरबन्धु सरहस-जोधाई
वीरबन्धु सरहस-जोधाई
Dr. Kishan tandon kranti
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
Shreedhar
आप लोग अभी से जानवरों की सही पहचान के लिए
आप लोग अभी से जानवरों की सही पहचान के लिए
शेखर सिंह
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
Omprakash Sharma
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
gurudeenverma198
दोस्ती देने लगे जब भी फ़रेब..
दोस्ती देने लगे जब भी फ़रेब..
अश्क चिरैयाकोटी
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
Anand Kumar
■ आज का महाज्ञान 😊
■ आज का महाज्ञान 😊
*Author प्रणय प्रभात*
तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपन
तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपन
DrLakshman Jha Parimal
आत्मस्वरुप
आत्मस्वरुप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
***दिल बहलाने  लाया हूँ***
***दिल बहलाने लाया हूँ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"अल्फाज दिल के "
Yogendra Chaturwedi
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
लक्ष्मी सिंह
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
Chunnu Lal Gupta
2836. *पूर्णिका*
2836. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
संवेदना(कलम की दुनिया)
संवेदना(कलम की दुनिया)
Dr. Vaishali Verma
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
दाता देना बस हमें , निर्मल मन अभिराम (कुंडलिया)
दाता देना बस हमें , निर्मल मन अभिराम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
दीपावली त्यौहार
दीपावली त्यौहार
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
लोककवि रामचरन गुप्त मनस्वी साहित्यकार +डॉ. अभिनेष शर्मा
लोककवि रामचरन गुप्त मनस्वी साहित्यकार +डॉ. अभिनेष शर्मा
कवि रमेशराज
*होइही सोइ जो राम रची राखा*
*होइही सोइ जो राम रची राखा*
Shashi kala vyas
सावन में शिव गुणगान
सावन में शिव गुणगान
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हृदय को भी पीड़ा न पहुंचे किसी के
हृदय को भी पीड़ा न पहुंचे किसी के
Er. Sanjay Shrivastava
Loading...