Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

आज़माइश

आजमाईश कैसी ये हमारी यारब…

तुम समंदर हम दरिया
मिलन तो तुमसे ही होना था
फ़र्क सिर्फ़ एक सोच का है
या दरिया का खुद को खोना था
या उसे समंदर ही होना था।

अभी कुछ दिन पहले तक
जो तुम्हारा यार हुआ करता था
फ़र्क सिर्फ़ एक सोच का है
या वो इंसान बना रहता
या उसे हिन्दू मुसलमान होना था।

ज़ुबां अलग भी हो तो क्या
हर धर्म बोलता है एक ही वाणी
फ़र्क सिर्फ़ एक सोच का है
या तो हम सिर्फ धर्म ही पढ़ लेते
या वह गीता और कुरान होना था।

किसने बनाया था यह संसार
और किसने बांटा है ये संसार
फ़र्क सिर्फ़ एक सोच का है
भेद करने वाला रब नहीं था
बस एक इंसान का हैवान होना था

प्यास तो पानी की ही थी हर इंसान को
मीठा पानी खारा ना हो ,यही सोच में होना था
फ़र्क सिर्फ़ एक सोच का है
कि हमारे घरों में जाते ही
निर्मल जल का हिन्दू मुसलमान होना था।

साहिल तक पहुंचने का है सहारा
कश्ती वह कि जिसमें कोई छेद ना हो
फ़र्क सिर्फ़ एक सोच का है
कि कश्ती में छेद करने वाले को हैवान
और छेद बंद करने वाला कोई इंसान ही होना था।

सिर तो झुकाया था उसके दर पे हम सबने
भाव पूजा का या ईमान इबादत का होना था
फ़र्क सिर्फ़ एक सोच का है
सजदा ही तो कह दिया था ना
तो क्यों हिन्दू मुसलमान होना था

क्यों हिन्दू मुसलमान होना था…..!!!

© डॉ सीमा

232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Seema Varma
View all
You may also like:
अमृत मयी गंगा जलधारा
अमृत मयी गंगा जलधारा
Ritu Asooja
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
Manoj Mahato
Cottage house
Cottage house
Otteri Selvakumar
अगर मेरे अस्तित्व को कविता का नाम दूँ,  तो इस कविता के भावार
अगर मेरे अस्तित्व को कविता का नाम दूँ, तो इस कविता के भावार
Sukoon
// दोहा ज्ञानगंगा //
// दोहा ज्ञानगंगा //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
लाइब्रेरी की दीवारों में, सपनों का जुनून
लाइब्रेरी की दीवारों में, सपनों का जुनून
पूर्वार्थ
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
23/81.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/81.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
Dr fauzia Naseem shad
'Being human is not that easy..!' {awarded poem}
'Being human is not that easy..!' {awarded poem}
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
ruby kumari
शुभ होली
शुभ होली
Dr Archana Gupta
आजमाइश
आजमाइश
Suraj Mehra
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तरुण
तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
sudhir kumar
ପରିଚୟ ଦାତା
ପରିଚୟ ଦାତା
Bidyadhar Mantry
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सावन
सावन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सच्चे- झूठे सब यहाँ,
सच्चे- झूठे सब यहाँ,
sushil sarna
आलस्य का शिकार
आलस्य का शिकार
Paras Nath Jha
पतझड़ से बसंत तक
पतझड़ से बसंत तक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
परामर्श शुल्क –व्यंग रचना
परामर्श शुल्क –व्यंग रचना
Dr Mukesh 'Aseemit'
"फरेबी"
Dr. Kishan tandon kranti
शोर बहुत करती हैं,
शोर बहुत करती हैं,
Shwet Kumar Sinha
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
*प्रणय प्रभात*
Loading...