Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2022 · 1 min read

आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar

मेरे इस चेहरे पे तरस खाना चाहिए था
इक बार हमें भी आजमाना चाहिए था

महफ़िल में जिक्र हुई किसी की हुस्न की
इक बार आपको भी शर्माना चाहिए था

मेरा साथ छोड़ा है ज़माने भर के हकीमों ने
ऐसे में आप को मेरे पास आना चाहिए था

लोग काट लेते हैं जिंदगी अजनबी के सहारे
आपको तो आपके पीछे जमाना चाहिए था

जाने कितनों के दिलों पे राज कर रही हैं आप
हमको बस आपके दिल में ठिकाना चाहिए था

आपके लहंगे से तो हमको कोई दिक्कत नहीं
आपको आंखों पे भी काजल लगाना चाहिए था

विनीत तुम को देखकर जो मुस्कुराता है सदा
देख कर उसको तुम्हें भी मुस्कुराना चाहिए था

~विनीत सिंह Vinit Singh Shayar

Language: Hindi
1 Like · 151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* शक्ति स्वरूपा *
* शक्ति स्वरूपा *
surenderpal vaidya
मरने की ठान कर मारने के लिए आने वालों को निपटा देना पर्याप्त
मरने की ठान कर मारने के लिए आने वालों को निपटा देना पर्याप्त
*प्रणय प्रभात*
भारत की सेना
भारत की सेना
Satish Srijan
ज़िम्मेदार कौन है??
ज़िम्मेदार कौन है??
Sonam Puneet Dubey
*होली*
*होली*
Dr. Priya Gupta
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
चाहत मोहब्बत और प्रेम न शब्द समझे.....
चाहत मोहब्बत और प्रेम न शब्द समझे.....
Neeraj Agarwal
*छंद--भुजंग प्रयात
*छंद--भुजंग प्रयात
Poonam gupta
"मित्रों से जुड़ना "
DrLakshman Jha Parimal
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
पूर्वार्थ
विरही
विरही
लक्ष्मी सिंह
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
आर.एस. 'प्रीतम'
समझौता
समझौता
Sangeeta Beniwal
बस यूं बहक जाते हैं तुझे हर-सम्त देखकर,
बस यूं बहक जाते हैं तुझे हर-सम्त देखकर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"बेचारा किसान"
Dharmjay singh
दीप आशा के जलें
दीप आशा के जलें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आह
आह
Pt. Brajesh Kumar Nayak
3219.*पूर्णिका*
3219.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सत्य क्या है ?
सत्य क्या है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
#जगन्नाथपुरी_यात्रा
#जगन्नाथपुरी_यात्रा
Ravi Prakash
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
Amit Pathak
भूमि भव्य यह भारत है!
भूमि भव्य यह भारत है!
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
"दरअसल"
Dr. Kishan tandon kranti
मनुष्य को
मनुष्य को
ओंकार मिश्र
कलम और रोशनाई की यादें
कलम और रोशनाई की यादें
VINOD CHAUHAN
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
वीर सुरेन्द्र साय
वीर सुरेन्द्र साय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आंखों की भाषा के आगे
आंखों की भाषा के आगे
Ragini Kumari
संवेदना
संवेदना
Ekta chitrangini
Loading...