Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2023 · 1 min read

शायरी

आजकल साथ मेरे अजीब इत्तेफाक हो रहे है।
एक एक करके सभी चेहरे साफ हो रहे है ।।
किरदार वही है पर नीयत बदल ली कुछ ने।
आहिस्ता आहिस्ता सारे रिश्ते खाक हो रहे है।।

471 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙂
🙂
Sukoon
वह आवाज
वह आवाज
Otteri Selvakumar
जय शिव-शंकर
जय शिव-शंकर
Anil Mishra Prahari
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
प्रेमदास वसु सुरेखा
सुविचार
सुविचार
Sarika Dhupar
"परोपकार के काज"
Dr. Kishan tandon kranti
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
कवि अनिल कुमार पँचोली
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
AMRESH KUMAR VERMA
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
चलो चलाए रेल।
चलो चलाए रेल।
Vedha Singh
पर्वत को आसमान छूने के लिए
पर्वत को आसमान छूने के लिए
उमेश बैरवा
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
Neelam Sharma
बाक़ी है..!
बाक़ी है..!
Srishty Bansal
दिल का गुस्सा
दिल का गुस्सा
Madhu Shah
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
प्रकृति - विकास (कविता) 11.06 .19 kaweeshwar
प्रकृति - विकास (कविता) 11.06 .19 kaweeshwar
jayanth kaweeshwar
विभीषण का दुःख
विभीषण का दुःख
Dr MusafiR BaithA
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
Ajad Mandori
राम अवध के
राम अवध के
Sanjay ' शून्य'
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
इंजी. संजय श्रीवास्तव
2556.पूर्णिका
2556.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जवानी
जवानी
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
डॉ ऋषि कुमार चतुर्वेदी (श्रद्धाँजलि लेख)
डॉ ऋषि कुमार चतुर्वेदी (श्रद्धाँजलि लेख)
Ravi Prakash
छाले पड़ जाए अगर राह चलते
छाले पड़ जाए अगर राह चलते
Neeraj Mishra " नीर "
मैं तेरी हो गयी
मैं तेरी हो गयी
Adha Deshwal
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
प्रकट भये दीन दयाला
प्रकट भये दीन दयाला
Bodhisatva kastooriya
सत्य साधना
सत्य साधना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दिल से निकले हाय
दिल से निकले हाय
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...