Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2022 · 1 min read

आजकल मैं

आजकल मैं,
रहता हूँ गौणता लिए हुए जंगल में,
एक तपस्वी की भांति विचार मग्न,
संसार से विमुख बैरागी की तरह,
समाधि की मुद्रा में दूर अकेले।

आजकल मैं,
मनाता हूँ जश्न अकेले में ही,
अपने पुरानी चिठ्ठियों को जलाकर,
मनाता हूँ शौक अकेले में ही,
अपने आँसुओं को बहाकर।

आजकल मैं,
करने लगता हूँ याद उनको,
जिनसे कभी था मेरा रिश्ता,
एक परिवार की तरह,
और दिखाते थे मुझको,
अपनी दौलत का अहम,
सोचता हूँ उनको हराने के लिए।

आजकल मैं,
पढ़ता हूँ वो आये हुए सन्देश,
जो भेजे हैं मुझको परिचितों ने,
बनाकर मेरी नयी तस्वीर,
फैलाते हुए अपनी बाँहें,
उत्सुक हूँ उनको देखने के लिए।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बिखरने की सौ बातें होंगी,
बिखरने की सौ बातें होंगी,
Vishal babu (vishu)
राखी की यह डोर।
राखी की यह डोर।
Anil Mishra Prahari
दास्तां
दास्तां
umesh mehra
मेरा पिता! मुझको कभी गिरने नही देगा
मेरा पिता! मुझको कभी गिरने नही देगा
अनूप अम्बर
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
24/228. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/228. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
हमारे दोस्त
हमारे दोस्त
Shivkumar Bilagrami
तुम आ जाओ एक बार.....
तुम आ जाओ एक बार.....
पूर्वार्थ
रमेशराज की कहमुकरियां
रमेशराज की कहमुकरियां
कवि रमेशराज
उत्कर्षता
उत्कर्षता
अंजनीत निज्जर
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरी नादाँ समझ को समझा दे अभी मैं ख़ाक हुवा नहीं
तेरी नादाँ समझ को समझा दे अभी मैं ख़ाक हुवा नहीं
'अशांत' शेखर
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
दिन की शुरुआत
दिन की शुरुआत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुक्तक
मुक्तक
दुष्यन्त 'बाबा'
सत्ता में वापसी के बाद
सत्ता में वापसी के बाद
*Author प्रणय प्रभात*
****रघुवीर आयेंगे****
****रघुवीर आयेंगे****
Kavita Chouhan
अश्क़
अश्क़
Satish Srijan
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
World Environmental Day
World Environmental Day
Tushar Jagawat
*जमानत : आठ दोहे*
*जमानत : आठ दोहे*
Ravi Prakash
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
सत्य कुमार प्रेमी
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
ललकार भारद्वाज
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
manjula chauhan
उम्मीदें ज़िंदगी की
उम्मीदें ज़िंदगी की
Dr fauzia Naseem shad
हमे यार देशी पिला दो किसी दिन।
हमे यार देशी पिला दो किसी दिन।
विजय कुमार नामदेव
फिर आई स्कूल की यादें
फिर आई स्कूल की यादें
Arjun Bhaskar
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
Loading...