Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Apr 2024 · 1 min read

आजकल / (नवगीत)

खेत हँसियों से
कटते नहीं आजकल ।

रात बेगार-सी
दिन है भारी बहुत ।
चल रही भेद की
रोज़ आरी बहुत ।

फूल ख़ुशियों के
खिलते नहीं आजकल ।

हार्वेस्टर चले
और रीपर चले ।
पेट मजदूर का
आग जैसा जले ।

ज़ख्म-नासूर
भरते नहीं आजकल ।

बैल बेकार हैं
गाय भूखी बहुत ।
है नदी रोज़गारों
की सूखी बहुत ।

काम खोजे से
मिलते नहीं आजकल ।

मौथली है कुदाली
औ’ मृत फावड़े ।
स्वप्न मजदूर के
सब अधूरे पड़े ।

खड्ड पाटे से
पटते नहीं आजकल ।
०००
— ईश्वर दयाल गोस्वामी
छिरारी(रहली),सागर
मध्यप्रदेश-470227
मो.-8463884927

Language: Hindi
Tag: गीत
3 Likes · 2 Comments · 169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सन् 19, 20, 21
सन् 19, 20, 21
Sandeep Pande
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
Er.Navaneet R Shandily
शर्म करो
शर्म करो
Sanjay ' शून्य'
"आज मग़रिब से फिर उगा सूरज।
*Author प्रणय प्रभात*
बहुत मुश्किल होता हैं, प्रिमिकासे हम एक दोस्त बनकर राहते हैं
बहुत मुश्किल होता हैं, प्रिमिकासे हम एक दोस्त बनकर राहते हैं
Sampada
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"उसूल"
Dr. Kishan tandon kranti
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
Ranjeet kumar patre
💐💐नेक्स्ट जेनरेशन💐💐
💐💐नेक्स्ट जेनरेशन💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Manisha Manjari
आज का बदलता माहौल
आज का बदलता माहौल
Naresh Sagar
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
Rajesh vyas
पोथी- पुस्तक
पोथी- पुस्तक
Dr Nisha nandini Bhartiya
#विषय --रक्षा बंधन
#विषय --रक्षा बंधन
rekha mohan
मेरा सुकून
मेरा सुकून
Umesh Kumar Sharma
रामराज्य
रामराज्य
कार्तिक नितिन शर्मा
शोकहर छंद विधान (शुभांगी)
शोकहर छंद विधान (शुभांगी)
Subhash Singhai
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
Babli Jha
‘ विरोधरस ‘---7. || विरोधरस के अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---7. || विरोधरस के अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
तुम आशिक़ हो,, जाओ जाकर अपना इश्क़ संभालो ..
तुम आशिक़ हो,, जाओ जाकर अपना इश्क़ संभालो ..
पूर्वार्थ
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
शीर्षक – निर्णय
शीर्षक – निर्णय
Sonam Puneet Dubey
महसूस तो होती हैं
महसूस तो होती हैं
शेखर सिंह
त्वमेव जयते
त्वमेव जयते
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2640.पूर्णिका
2640.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
Satish Srijan
* हिन्दी को ही *
* हिन्दी को ही *
surenderpal vaidya
*आया फिर से देश में, नूतन आम चुनाव (कुंडलिया)*
*आया फिर से देश में, नूतन आम चुनाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आपको हम
आपको हम
Dr fauzia Naseem shad
Loading...