Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2022 · 1 min read

🚩आगे बढ़,मतदान करें।

🧿
देश हेतु कुछ काम करें।
लोकतंत्र का मान करें।
जागरूक बनकर हम सब।
आगे बढ़,मतदान करें।

🧿
अवनति-हिंसा का दानव
छोड़, चुने सच्चा मानव।
प्रेम-शांति-अपनापन औ,
सद्विकास-सम्मान करें।
आगे बढ़, मतदान करें।

🧿
जो समाज का हो पोषक
और प्रजाहित उद्घोषक।
मिलकर उसका मान तथा
शोषित का उत्थान करें।
आगे बढ़,मतदान करें।

🧿
तुम सोए तो देश फँसा।
जातिवाद औ द्वेष-नशा,
झूमेगा, घर-आँगन में।
निज को क्यों अवसान करें।
आगे बढ़, मतदान करें।

——————————————-

💙यह रचना मेरी कृति “पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं” काव्य संग्रह के द्वितीय संस्करण के पृष्ठ संख्या 14 एवं 15 पर भी पढ़ी जा सकती है।

💙”पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं ” कृति का द्वितीय संस्करण साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से प्रकाशित है और अमेजोन-फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

पं बृजेश कुमार नायक

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 542 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak

You may also like:
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मशहूर हो जाऊं
मशहूर हो जाऊं
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
■ सलामत रहिए
■ सलामत रहिए
*Author प्रणय प्रभात*
उतरन
उतरन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
shabina. Naaz
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
बदनाम होने के लिए
बदनाम होने के लिए
Shivkumar Bilagrami
"तवा और औरत"
Dr. Kishan tandon kranti
कहॉं दीखती अब वह मस्ती, बचपन वाली होली जी (गीत)
कहॉं दीखती अब वह मस्ती, बचपन वाली होली जी (गीत)
Ravi Prakash
तुम्हें ये आदत सुधारनी है।
तुम्हें ये आदत सुधारनी है।
सत्य कुमार प्रेमी
अध खिला कली तरुणाई  की गीत सुनाती है।
अध खिला कली तरुणाई की गीत सुनाती है।
Nanki Patre
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
सूर्यकांत द्विवेदी
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
Sakshi Tripathi
अंतर्जाल यात्रा
अंतर्जाल यात्रा
Dr. Sunita Singh
बहकी बहकी बातें करना
बहकी बहकी बातें करना
Surinder blackpen
उससे दिल मत लगाना जिससे तुम्हारा दिल लगे
उससे दिल मत लगाना जिससे तुम्हारा दिल लगे
कवि दीपक बवेजा
चॉंद और सूरज
चॉंद और सूरज
Ravi Ghayal
गीत नए गाने होंगे
गीत नए गाने होंगे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बरसात
बरसात
surenderpal vaidya
ਨਾਨਕ  ਨਾਮ  ਜਹਾਜ  ਹੈ, ਸਬ  ਲਗਨੇ  ਹੈਂ  ਪਾਰ
ਨਾਨਕ ਨਾਮ ਜਹਾਜ ਹੈ, ਸਬ ਲਗਨੇ ਹੈਂ ਪਾਰ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अभी तो साथ चलना है
अभी तो साथ चलना है
Vishal babu (vishu)
प्यार की स्टेजे (प्रक्रिया)
प्यार की स्टेजे (प्रक्रिया)
Ram Krishan Rastogi
खूबियाँ और खामियाँ सभी में होती हैं, पर अगर किसी को आपकी खूब
खूबियाँ और खामियाँ सभी में होती हैं, पर अगर किसी को आपकी खूब
Manisha Manjari
फुलों कि  भी क्या  नसीब है साहब,
फुलों कि भी क्या नसीब है साहब,
Radha jha
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
Seema Verma
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गोलगप्पा/पानीपूरी
गोलगप्पा/पानीपूरी
लक्ष्मी सिंह
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
तारकेशवर प्रसाद तरुण
बहुत मशरूफ जमाना है
बहुत मशरूफ जमाना है
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...