Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 19, 2016 · 1 min read

आखिर कोई क्यू

आखिर कोई क्यों
मुझे पढ़ना चाहेगा?????

अपने अमूल्य जीवन का
निर्धारित वक्त
क्यों
मुझमें व्यर्थ करेगा?????

कई बार
कलम …
ठिठक जाती है

ज्ञान कोष
निरुत्तर हो

जल सी निकली
मछली जैसा

तपते इस/
सावली रेत पर./
तड़पने लगता है…..

आखिर क्यों???
कोई मुझे पढ़ेगा……

1 Like · 1 Comment · 199 Views
You may also like:
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
जल की अहमियत
Utsav Kumar Aarya
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
मेरे बेटे ने
Dhirendra Panchal
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
हमलोग
Dr.sima
तुझ पर ही निर्भर हैं....
Dr. Alpa H. Amin
✍️क्रांतिसूर्य✍️
"अशांत" शेखर
मां
Dr. Rajeev Jain
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
.✍️लौटा हि दूँगा...✍️
"अशांत" शेखर
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
आकार ले रही हूं।
Taj Mohammad
अजनबी
Dr. Alpa H. Amin
आखिर क्यों... ऐसा होता हैं 
Dr. Alpa H. Amin
प्रश्न! प्रश्न लिए खड़ा है!
Anamika Singh
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
फूल
Alok Saxena
पिता पच्चीसी दोहावली
Subhash Singhai
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
✍️मनस्ताप✍️
"अशांत" शेखर
हंसकर गमों को एक घुट में मैं इस कदर पी...
Krishan Singh
दो पल मोहब्बत
श्री रमण
पहचान
Anamika Singh
मेरी चुनरिया
DESH RAJ
बदरिया
Dhirendra Panchal
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
Loading...