Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2016 · 1 min read

आखिर कोई क्यू

आखिर कोई क्यों
मुझे पढ़ना चाहेगा?????

अपने अमूल्य जीवन का
निर्धारित वक्त
क्यों
मुझमें व्यर्थ करेगा?????

कई बार
कलम …
ठिठक जाती है

ज्ञान कोष
निरुत्तर हो

जल सी निकली
मछली जैसा

तपते इस/
सावली रेत पर./
तड़पने लगता है…..

आखिर क्यों???
कोई मुझे पढ़ेगा……

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 530 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी औकात
मेरी औकात
साहित्य गौरव
राज़ की बात
राज़ की बात
Shaily
प्यार की कलियुगी परिभाषा
प्यार की कलियुगी परिभाषा
Mamta Singh Devaa
उन वीर सपूतों को
उन वीर सपूतों को
gurudeenverma198
"मन और मनोबल"
Dr. Kishan tandon kranti
ख़ून इंसानियत का
ख़ून इंसानियत का
Dr fauzia Naseem shad
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
The_dk_poetry
जनैत छी हमर लिखबा सँ
जनैत छी हमर लिखबा सँ
DrLakshman Jha Parimal
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
Dr. Mulla Adam Ali
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
आसान नहीं होता
आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
Anand Kumar
2579.पूर्णिका
2579.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक अलग ही खुशी थी
एक अलग ही खुशी थी
Ankita Patel
एहसास.....
एहसास.....
Harminder Kaur
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
शिव प्रताप लोधी
■ लेखन मेरे लिए...
■ लेखन मेरे लिए...
*Author प्रणय प्रभात*
शरीक-ए-ग़म
शरीक-ए-ग़म
Shyam Sundar Subramanian
अधूरे ख्वाब
अधूरे ख्वाब
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
**पी कर  मय महका कोरा मन***
**पी कर मय महका कोरा मन***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
भारत माता की संतान
भारत माता की संतान
Ravi Yadav
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
It is necessary to explore to learn from experience😍
It is necessary to explore to learn from experience😍
Sakshi Tripathi
नैनों में प्रिय तुम बसे....
नैनों में प्रिय तुम बसे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
खो गई जो किर्ति भारत की उसे वापस दिला दो।
खो गई जो किर्ति भारत की उसे वापस दिला दो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
AJAY AMITABH SUMAN
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता
हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता
Anis Shah
हवेली का दर्द
हवेली का दर्द
Atul "Krishn"
Loading...