Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

आकुल बसंत!

आकुल बसंत, ले प्रीति सुगंध,
व्याकुल बसंत में, सजनी कंत।
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद,
पगडंडि यौवन की, प्रीत अनंत।

कुहू- कुहू कोयल के मधुर छंद,
मधुर बोल,सजन से उर जीवंत।
पीले सुमनों का पीकर मकरंद,
मिलते क्षितिज पार हैं आदी-अंत।

नीलम शर्मा ✍️

Language: Hindi
1 Like · 98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
"किसान"
Slok maurya "umang"
........,
........,
शेखर सिंह
2755. *पूर्णिका*
2755. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
To improve your mood, exercise
To improve your mood, exercise
पूर्वार्थ
तुमने की दग़ा - इत्तिहाम  हमारे नाम कर दिया
तुमने की दग़ा - इत्तिहाम  हमारे नाम कर दिया
Atul "Krishn"
एक अदद इंसान हूं
एक अदद इंसान हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या है
क्या है
Dr fauzia Naseem shad
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
Shekhar Chandra Mitra
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
.
.
*प्रणय प्रभात*
💫समय की वेदना😥
💫समय की वेदना😥
SPK Sachin Lodhi
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
shabina. Naaz
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
Brijpal Singh
*जब से मुझे पता चला है कि*
*जब से मुझे पता चला है कि*
Manoj Kushwaha PS
दिल-ए-साकित सज़ा-ए-ज़िंदगी कैसी लगी तुझको
दिल-ए-साकित सज़ा-ए-ज़िंदगी कैसी लगी तुझको
Johnny Ahmed 'क़ैस'
--बेजुबान का दर्द --
--बेजुबान का दर्द --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Little Things
Little Things
Dhriti Mishra
सुंदरता के मायने
सुंदरता के मायने
Surya Barman
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
कवि रमेशराज
मन का आंगन
मन का आंगन
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
दाना
दाना
Satish Srijan
शुभ को छोड़ लाभ पर
शुभ को छोड़ लाभ पर
Dr. Kishan tandon kranti
यह हिन्दुस्तान हमारा है
यह हिन्दुस्तान हमारा है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जहाँ जिंदगी को सुकून मिले
जहाँ जिंदगी को सुकून मिले
Ranjeet kumar patre
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
Paras Nath Jha
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Loading...