Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Apr 2023 · 1 min read

आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में

आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
ज़ख्म-ए-दिल हुआ हुस्न की सोहबत में
उठता नही कोई हाथ,अब दुआ के लिए
जान जोखिम में है इश्क की अदावत में
✍️..पंकज पाण्डेय ‘सावर्ण्य’

478 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुख  से  निकली पहली भाषा हिन्दी है।
मुख से निकली पहली भाषा हिन्दी है।
सत्य कुमार प्रेमी
बिना जिसके न लगता दिल...
बिना जिसके न लगता दिल...
आर.एस. 'प्रीतम'
ONR WAY LOVE
ONR WAY LOVE
Sneha Deepti Singh
चाह
चाह
Dr. Rajeev Jain
की तरह
की तरह
Neelam Sharma
काश
काश
लक्ष्मी सिंह
समझ ना पाया अरमान पिता के कद्र न की जज़्बातों की
समझ ना पाया अरमान पिता के कद्र न की जज़्बातों की
VINOD CHAUHAN
मेरी मां।
मेरी मां।
Taj Mohammad
2815. *पूर्णिका*
2815. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बहुत हुआ
बहुत हुआ
Mahender Singh
बदल गयो सांवरिया
बदल गयो सांवरिया
Khaimsingh Saini
बहुत हैं!
बहुत हैं!
Srishty Bansal
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
Er.Navaneet R Shandily
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
महसूस तो होती हैं
महसूस तो होती हैं
शेखर सिंह
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
आत्म अवलोकन कविता
आत्म अवलोकन कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
तय
तय
Ajay Mishra
प्यार जताना नहीं आता मुझे
प्यार जताना नहीं आता मुझे
MEENU SHARMA
वो इश्क की गली का
वो इश्क की गली का
साहित्य गौरव
लहजा
लहजा
Naushaba Suriya
04/05/2024
04/05/2024
Satyaveer vaishnav
पथ सहज नहीं रणधीर
पथ सहज नहीं रणधीर
Shravan singh
यादों के जंगल में
यादों के जंगल में
Surinder blackpen
🙅आमंत्रण🙅
🙅आमंत्रण🙅
*प्रणय प्रभात*
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
"हाशिये में पड़ी नारी"
Dr. Kishan tandon kranti
सांसें
सांसें
निकेश कुमार ठाकुर
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
Kanchan Alok Malu
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम
Anand Kumar
Loading...