Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2023 · 1 min read

आओ,

आओ,
कि जिन्दगी
बेनूर, बेरंग हो चली है
कमी तेरी, बन के खिजां
हर सिम्त बिखर गई है
हमसफर मेरी,
तलबगार हूँ तेरी बाहों के सहारे का
बन के बूँद पानी की
आ, और
मुझ पर बिखर बिखर जा.

145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
सत्य कुमार प्रेमी
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
दुनिया दिखावे पर मरती है , हम सादगी पर मरते हैं
दुनिया दिखावे पर मरती है , हम सादगी पर मरते हैं
कवि दीपक बवेजा
जब  फ़ज़ाओं  में  कोई  ग़म  घोलता है
जब फ़ज़ाओं में कोई ग़म घोलता है
प्रदीप माहिर
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2539.पूर्णिका
2539.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"सदा से"
Dr. Kishan tandon kranti
मुस्कुराते हुए सब बता दो।
मुस्कुराते हुए सब बता दो।
surenderpal vaidya
रमेशराज के विरोधरस के गीत
रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
सुन लो मंगल कामनायें
सुन लो मंगल कामनायें
Buddha Prakash
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
अब नये साल में
अब नये साल में
डॉ. शिव लहरी
*जीवन है मुस्कान (कुंडलिया)*
*जीवन है मुस्कान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
छल
छल
गौरव बाबा
भगतसिंह: एक जीनियस
भगतसिंह: एक जीनियस
Shekhar Chandra Mitra
गुनाह लगता है किसी और को देखना
गुनाह लगता है किसी और को देखना
Trishika S Dhara
SHELTER OF LIFE
SHELTER OF LIFE
Awadhesh Kumar Singh
दिल से दिल तो टकराया कर
दिल से दिल तो टकराया कर
Ram Krishan Rastogi
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
Kumar lalit
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
आजा मेरे दिल तू , मत जा मुझको छोड़कर
आजा मेरे दिल तू , मत जा मुझको छोड़कर
gurudeenverma198
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मैंने एक दिन खुद से सवाल किया —
मैंने एक दिन खुद से सवाल किया —
SURYA PRAKASH SHARMA
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
Paras Nath Jha
चले ससुराल पँहुचे हवालात
चले ससुराल पँहुचे हवालात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भगवत गीता जयंती
भगवत गीता जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नारी शक्ति..................
नारी शक्ति..................
Surya Barman
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
Ankita Patel
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...