Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jan 2024 · 1 min read

*आओ मिलकर नया साल मनाएं*

आओ मिलकर नया साल मनाएं
***************************

आओ मिल कर नया साल मनाएं।
गीत ख़ुशी के सभी मिल कर गाएं।

शिकवे – शिकायतें भूल कर सारी,
फिर से हम सभी एक ही हो जाएं।

गिले हों अगर कोई जेब में बाकी,
ख़ुशी – ख़ुशी कहीं पर बेच गिराएं।

रिश्ते-नाते जो मुश्किल से निभते,
एक दूसरे को मन मंदिर मे बसाएं।

जिन को देनी थी दिल से बधाई,
वो तो भरी महफ़िल में नहीं आए।

नया साल चढकर आँगन में आया,
मौज मस्ती गीत सुरीलें गुनगुनाएं।

मनसीरत दे नूतन वर्ष की बधाई,
हर पल हर दम हम रहें मुस्कराएं।
**************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेडी राओ वाली (कैथल)

129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कैसे एक रिश्ता दरकने वाला था,
कैसे एक रिश्ता दरकने वाला था,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,
मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तू बदल गईलू
तू बदल गईलू
Shekhar Chandra Mitra
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
साथ चली किसके भला,
साथ चली किसके भला,
sushil sarna
#रोचक_तथ्य
#रोचक_तथ्य
*Author प्रणय प्रभात*
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*** एक दौर....!!! ***
*** एक दौर....!!! ***
VEDANTA PATEL
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
राहुल रायकवार जज़्बाती
बहना तू सबला बन 🙏🙏
बहना तू सबला बन 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
Sunil Suman
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
Paras Nath Jha
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
एकांत में रहता हूँ बेशक
एकांत में रहता हूँ बेशक
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आवश्यक मतदान है
आवश्यक मतदान है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"वाह नारी तेरी जात"
Dr. Kishan tandon kranti
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*अध्याय 11*
*अध्याय 11*
Ravi Prakash
रिश्तों का गणित
रिश्तों का गणित
Madhavi Srivastava
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
Gouri tiwari
संवेदना
संवेदना
Shama Parveen
* तुम न मिलती *
* तुम न मिलती *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये पांच बातें
ये पांच बातें
Yash mehra
2464.पूर्णिका
2464.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
2) भीड़
2) भीड़
पूनम झा 'प्रथमा'
हर जौहरी को हीरे की तलाश होती है,, अज़ीम ओ शान शख्सियत.. गुल
हर जौहरी को हीरे की तलाश होती है,, अज़ीम ओ शान शख्सियत.. गुल
Shweta Soni
मुझ में
मुझ में
हिमांशु Kulshrestha
Loading...