Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2023 · 1 min read

“आओ मिलकर दीप जलायें “

“आओ मिलकर दीप जलायें”
🪔*🪔**🪔**🪔*

खुशियों से दामन भर जायें
आओ मिलकर दीप जलायें

जग के सारे कलुष मिटायें
कांटों को मह,मह महकायें
प्रीत की बाती घी से भरकर
घोर तिमिर में दीप जलायें

दीप शिखा के उजालों से
कीट पतंगों को ललचायें
दीपों से जगमग घर आंगन
रंगोली से खूब सजायें

फूलझड़ी चरखी अनार संग
पटाखों की झड़ी लगायें
राजभोग, मोहन से कहता
बच्चों के मन को हम भायें
🎇🎇🎇🎇🎇🎇🎇
आओ मिलकर दीप जलायें

••• कलमकार •••
चुन्नू लाल गुप्ता-मऊ (उ.प्र.)

🪔🪔आप सभी साथियों को दीपावली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं – चुन्नू लाल गुप्ता-मऊ ✍️

243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उल्फत अय्यार होता है कभी कबार
उल्फत अय्यार होता है कभी कबार
Vansh Agarwal
2357.पूर्णिका
2357.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
Kumar lalit
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
DrLakshman Jha Parimal
पसंद प्यार
पसंद प्यार
Otteri Selvakumar
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
Surinder blackpen
तस्वीर जो हमें इंसानियत का पाठ पढ़ा जाती है।
तस्वीर जो हमें इंसानियत का पाठ पढ़ा जाती है।
Abdul Raqueeb Nomani
"इबारत"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कभी सोच है कि खुद को क्या पसन्द
कभी सोच है कि खुद को क्या पसन्द
पूर्वार्थ
निर्धनता ऐश्वर्य क्या , जैसे हैं दिन - रात (कुंडलिया)
निर्धनता ऐश्वर्य क्या , जैसे हैं दिन - रात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
पढ़ो और पढ़ाओ
पढ़ो और पढ़ाओ
VINOD CHAUHAN
एक व्यथा
एक व्यथा
Shweta Soni
बुध्द गीत
बुध्द गीत
Buddha Prakash
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
SHAMA PARVEEN
घर से बेघर
घर से बेघर
Punam Pande
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
AMRESH KUMAR VERMA
काशी में नहीं है वो,
काशी में नहीं है वो,
Satish Srijan
अब न तुमसे बात होगी...
अब न तुमसे बात होगी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दुकान वाली बुढ़िया
दुकान वाली बुढ़िया
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
निकला वीर पहाड़ चीर💐
निकला वीर पहाड़ चीर💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अनसोई कविता............
अनसोई कविता............
sushil sarna
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का परिचय।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का परिचय।
Dr. Narendra Valmiki
****शिक्षक****
****शिक्षक****
Kavita Chouhan
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
शिव प्रताप लोधी
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
सत्य कुमार प्रेमी
महादान
महादान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...