Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2023 · 1 min read

आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना

आओ तो सही,भले ही दिल तोड़ कर चले जाना।
बाहें फैलाऊंगी,भले ही उन्हें मोड़ कर चले जाना।

मुद्दत्तो से प्यासी बैठी हूं,भले ही प्यास न बुझाना।
वादे किए मुद्दतो से,भले ही तोड़ कर चले जाना।।

मन को बुहारा है मैने,दिल को बहुत समझाया मैने।
पलके बिछाए बैठी हूं,भले ही छोड़ कर चले जाना।।

नगमे बहुत लिखे है मैने,तेरी याद में दिन रात मैने।
एक बार आओ तो सही,भले ही सुनकर चले जाना।।

बीमार बहुत हूं मैं,कोई दवाई भी अब नही लगती।
तुम मेरे हकीम हो,भले ही दवाई देकर चले जाना।।

खत्म करो ये गिले शिकवे,अब मान भी जाओ।
प्यार से बुलाऊंगी मै,तुम दौड़ कर चले आना।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
4 Likes · 4 Comments · 478 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
विडंबना
विडंबना
Shyam Sundar Subramanian
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
SPK Sachin Lodhi
क्या सत्य है ?
क्या सत्य है ?
Buddha Prakash
जिंदगी तेरे सफर में क्या-कुछ ना रह गया
जिंदगी तेरे सफर में क्या-कुछ ना रह गया
VINOD CHAUHAN
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
राम कहने से तर जाएगा
राम कहने से तर जाएगा
Vishnu Prasad 'panchotiya'
होली
होली
Madhavi Srivastava
ऐसे रुखसत तुम होकर, जावो नहीं हमसे दूर
ऐसे रुखसत तुम होकर, जावो नहीं हमसे दूर
gurudeenverma198
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
Satish Srijan
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
पूर्वार्थ
किराये के मकानों में
किराये के मकानों में
करन ''केसरा''
इतना भी खुद में
इतना भी खुद में
Dr fauzia Naseem shad
"क्षमायाचना"
Dr. Kishan tandon kranti
दो दोस्तों की कहानि
दो दोस्तों की कहानि
Sidhartha Mishra
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
Neelam Sharma
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
★बादल★
★बादल★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
*ताना कंटक सा लगता है*
*ताना कंटक सा लगता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हो....ली
हो....ली
Preeti Sharma Aseem
कृष्ण कन्हैया
कृष्ण कन्हैया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
शेर
शेर
SHAMA PARVEEN
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
रात क्या है?
रात क्या है?
Astuti Kumari
पर्यावरण
पर्यावरण
Dinesh Kumar Gangwar
*चार दिवस का है पड़ाव, फिर नूतन यात्रा जारी (वैराग्य गीत)*
*चार दिवस का है पड़ाव, फिर नूतन यात्रा जारी (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
Rj Anand Prajapati
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
Anand Kumar
राम है अमोघ शक्ति
राम है अमोघ शक्ति
Kaushal Kumar Pandey आस
पर्यावरण प्रतिभाग
पर्यावरण प्रतिभाग
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
फितरत
फितरत
लक्ष्मी सिंह
Loading...