Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

आओ जाओ मेरी बाहों में,कुछ लम्हों के लिए

कुछ लम्हें आये जिन्दगी में,कुछ लम्हों के लिये।
आज भी तरसते है हम,उन सब लम्हों के लिये ।।

तड़प रही हूं मै किस कदर, तुन्हे क्या ख़बर।
आओ जाओ मेरी बाहों में कुछ लम्हों के लिए।।

ख़ुदा ने हमसे कहा,कुछ तो मांग लो मुझ से।
मैंने कहा,बिताये लम्हें दे दो,कुछ लम्हों के लिये।।

मेरे मुक्कदर में आये थे आप,कुछ लम्हो के लिये ।
मैं सारी रात रोई, बिताये हुये उन लम्हों के लिये।।

आते नहीं लम्हे दुबारा जो बीत गये है जिन्दगी में ।
लम्हों से बोली,तुम तो आ जाओ एक लम्हे के लिये ।।

लम्हा लम्हा कर गुजर गयी,ये सारी मेरी जिन्दगी ।
ये जिन्दगी तरस रही है आखरी एक लम्हे के लिये ।।

उन्होंने कहा,बस आ जाओ बाँहों में एक लम्हे के लिये।
उनकी ख्वाइश पूरी न कर सकी उस एक लम्हे के लिये।।

रस्तोगी अर्ज करता है,कुछ लम्हे ही बचे है जिन्दगी में।
इसलिए कुछ लिख डालू,बीते हुये कुछ लम्हों के लिये।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 426 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
महिला दिवस पर एक व्यंग
महिला दिवस पर एक व्यंग
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] भाग–7
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] भाग–7
Pravesh Shinde
हमको अब पढ़ने स्कूल जाना है
हमको अब पढ़ने स्कूल जाना है
gurudeenverma198
शाकाहारी बने
शाकाहारी बने
Sanjay ' शून्य'
उम्मीद
उम्मीद
Paras Nath Jha
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"किसने कहा कि-
*Author प्रणय प्रभात*
Unlocking the Potential of the LK99 Superconductor: Investigating its Zero Resistance and Breakthrough Application Advantages
Unlocking the Potential of the LK99 Superconductor: Investigating its Zero Resistance and Breakthrough Application Advantages
Shyam Sundar Subramanian
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
........
........
शेखर सिंह
बचपन
बचपन
Anil "Aadarsh"
*नियंत्रण जिनका जिह्वा पर, नियंत्रित कौर होता है 【मुक्तक】*
*नियंत्रण जिनका जिह्वा पर, नियंत्रित कौर होता है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
Rj Anand Prajapati
जो पड़ते हैं प्रेम में...
जो पड़ते हैं प्रेम में...
लक्ष्मी सिंह
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
अच्छा खाना
अच्छा खाना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
Ram Krishan Rastogi
भगतसिंह का क़र्ज़
भगतसिंह का क़र्ज़
Shekhar Chandra Mitra
स्वयंसिद्धा
स्वयंसिद्धा
ऋचा पाठक पंत
23/97.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/97.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
Minakshi
चल सतगुर के द्वार
चल सतगुर के द्वार
Satish Srijan
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
कविता - नदी का वजूद
कविता - नदी का वजूद
Akib Javed
भूल जाते हैं मौत को कैसे
भूल जाते हैं मौत को कैसे
Dr fauzia Naseem shad
लाखों ख्याल आये
लाखों ख्याल आये
Surinder blackpen
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
Keshav kishor Kumar
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
ruby kumari
भोर अगर है जिंदगी,
भोर अगर है जिंदगी,
sushil sarna
Loading...