Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

आओ गुफ्तगू करे

बनाओ राम का मंदिर
मेरा भगवान आया है,
करे प्रांगण में गुफ्तगू
ये मेरे मन में आया है।

सजी गलियां अवध की है
सजा उपवन यहाँ सारा ,
प्रभु घर आये अपने है
बना जो आज है न्यारा।

चतुर्दिक फैली है ऊर्जा
सुवासित परिसर है पूरा,
गगन में दुंदुभि बजती
है पुलकित रोम हर मेरा।

हुए संघर्ष कितने है
बने मंदिर प्रभु तेरा ,
थी कितने वर्ष यू लटकी
प्रभु थी अस्मिता तेरी।

हुए बलिदान कितने है
किया है त्याग कितनो ने,
बने प्रासाद पुरंदर सा
मिला है दान अरबो में।

प्रतिक्षित साधना सबकी
हुई है पूरी सिद्दत से ,
करे ना ईश अब ऐसा
कोई वियोग यू फिर से।

है ठहरे भाग्यशाली हम
बने गवाह इस पल के ,
नयनभर देख ले रघुवर
तुम्हे आये न पल फिर से।

करे परिसर में गुफ्तगू
कि आंगन मन को भाया है,
चलो दर्शन भी कर आये
ये मेरे मन में आया है।

नमन पावन निमिष को है
नमन लग्नेश को पावन ,
नमन ब्रह्माण्ड को निर्मेश
सजे रघुनाथ का उपवन।

निर्मेष

40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
Jyoti Khari
पल का मलाल
पल का मलाल
Punam Pande
दिसम्बर की सर्द शाम में
दिसम्बर की सर्द शाम में
Dr fauzia Naseem shad
बारिश के लिए तरस रहे
बारिश के लिए तरस रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कितनी हीं बार
कितनी हीं बार
Shweta Soni
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
Jitendra Chhonkar
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
2310.पूर्णिका
2310.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
Sukoon
ताल्लुक अगर हो तो रूह
ताल्लुक अगर हो तो रूह
Vishal babu (vishu)
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर  टूटा है
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर टूटा है
कृष्णकांत गुर्जर
नेपाल के लुंबनी में सफलतापूर्ण समापन हुआ सार्क समिट एवं गौरव पुरुस्कार समारोह
नेपाल के लुंबनी में सफलतापूर्ण समापन हुआ सार्क समिट एवं गौरव पुरुस्कार समारोह
The News of Global Nation
वासुदेव
वासुदेव
Bodhisatva kastooriya
गुरुर ज्यादा करोगे
गुरुर ज्यादा करोगे
Harminder Kaur
अक्सर समय बदलने पर
अक्सर समय बदलने पर
शेखर सिंह
अतिथि हूं......
अतिथि हूं......
Ravi Ghayal
You do NOT need to take big risks to be successful.
You do NOT need to take big risks to be successful.
पूर्वार्थ
खालीपन
खालीपन
करन ''केसरा''
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
Dr MusafiR BaithA
प्रेम
प्रेम
Shyam Sundar Subramanian
कहते हो इश्क़ में कुछ पाया नहीं।
कहते हो इश्क़ में कुछ पाया नहीं।
Manoj Mahato
अधखिली यह कली
अधखिली यह कली
gurudeenverma198
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
Er. Sanjay Shrivastava
■ ये हैं ठेकेदार
■ ये हैं ठेकेदार
*Author प्रणय प्रभात*
तुझसे कुछ नहीं चाहिये ए जिन्दगीं
तुझसे कुछ नहीं चाहिये ए जिन्दगीं
Jay Dewangan
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
आदि शंकराचार्य
आदि शंकराचार्य
Shekhar Chandra Mitra
*चुनाव: छह दोहे*
*चुनाव: छह दोहे*
Ravi Prakash
माँ वाणी की वन्दना
माँ वाणी की वन्दना
Prakash Chandra
Loading...