Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

“” *आओ करें कृष्ण चेतना का विकास* “”

“” आओ करें कृष्ण चेतना का विकास “”
**********************************

( 1 )” आओ
करें कृष्ण
चेतना का विकास,
जानते चलें श्रीहरि को !
तत्त्व ज्ञान को समझें पहचाने …..,
और जानें जन्म मृत्यु के भेद को !!

( 2 )” करें
नित्य सत्कर्म
भावपूर्ण श्रद्धा संग,
चलें करते प्रभु को कर्मफल अर्पण !
श्रीचरणों में करते रहें सदा स्तुति ….,
और निःस्वार्थ भाव से करें स्वयं का समर्पण !!

( 3 )” कृष्ण
जय श्रीराधा
ज्ञान धारा बहे ,
चले अज़स्त्र अनवरत सदा !
आओ, चलें इसमें उतरते गहरे ….,
और निकलें तमसावृत से बाहर यहाँ !!

( 4 )” चेतना
जड़ता समझें
निकलें इससे बाहर ,
और बन प्रकृतिस्थ जीवन जीएं !
बसता ईश्वर कण-कण में यहाँ पे ….,
ये दिव्य प्रकृति जान,भवसागर से निकल पाएं !!

( 5 )” का “, काया
देह अभिमान
मोह-माया से उभरें ,
और इससे ऊपर उठके सोचें !
अपने निज स्वरूप की करलें पहचान ….,
और श्रीहरिभक्ति सेवा में समर्पित करते चलें !!

( 6 )” विकास
है स्वयंका
स्वयं को पहचानना ,
समझना तत्त्व ज्ञान का भेद !
आओ,करते चलें नित्य स्वयं से मुलाक़ात ..,
और बन श्रीकृष्णप्रेमी, जानें वाङ्मय गीता वेद !!

¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥

सुनीलानंद
शुक्रवार,
17 मई, 2024
जयपुर,
राजस्थान |

Language: Hindi
1 Like · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लंगोटिया यारी
लंगोटिया यारी
Sandeep Pande
दिल की आवाज़
दिल की आवाज़
Dipak Kumar "Girja"
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
Trishika S Dhara
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
Vishal babu (vishu)
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
" फ़साने हमारे "
Aarti sirsat
2357.पूर्णिका
2357.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इस घर से .....
इस घर से .....
sushil sarna
हिंदी की भविष्यत्काल की मुख्य क्रिया में हमेशा ऊँगा /ऊँगी (य
हिंदी की भविष्यत्काल की मुख्य क्रिया में हमेशा ऊँगा /ऊँगी (य
कुमार अविनाश 'केसर'
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
Nasib Sabharwal
कितना खाली खालीपन है !
कितना खाली खालीपन है !
Saraswati Bajpai
ग़म ज़दा लोगों से जाके मिलते हैं
ग़म ज़दा लोगों से जाके मिलते हैं
अंसार एटवी
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
Mamta Singh Devaa
ढलती उम्र -
ढलती उम्र -
Seema Garg
एक होता है
एक होता है "जीजा"
*प्रणय प्रभात*
दास्तान-ए- वेलेंटाइन
दास्तान-ए- वेलेंटाइन
Dr. Mahesh Kumawat
मेरे जैसा
मेरे जैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*संभल में सबको पता, लिखा कल्कि अवतार (कुंडलिया)*
*संभल में सबको पता, लिखा कल्कि अवतार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
-शेखर सिंह
-शेखर सिंह
शेखर सिंह
कब तक
कब तक
आर एस आघात
कागज की कश्ती
कागज की कश्ती
Ritu Asooja
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
ओसमणी साहू 'ओश'
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
काबा जाए कि काशी
काबा जाए कि काशी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक ही तो, निशा बचा है,
एक ही तो, निशा बचा है,
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
gurudeenverma198
हास्य व्यंग्य
हास्य व्यंग्य
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...