Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2024 · 1 min read

“आए हैं ऋतुराज”

वासन्ती चूनर पहन,
रखे धरा क्यों राज़ l
“आशा” बाँधे, मिलन की,
सज-धज, करती नाज़।l

टेसू सँग गुलबाँस भी,
दिखता है जाँबाज़ l
चित्रकार को ज्यों मिली,
मनचाही परवाज़।l

मन को मोहें तितलियाँ,
किस पर गिरनी गाज l
भ्रमर-वृन्द, गुँजार पर,
करतीं, कलियाँ लाज।l

व्योम सँदेसा दे रहा,
भले न कुछ आवाज़ l
इन्द्रधनुष भी कर रहा,
सतरंगी आग़ाज़।।

कोई कितना भी बने,
ख़ुद मेँ तीरन्दाज़ l
किंतु कहाँ, कब, है दिखा,
प्रभु सा कारन्दाज़।l

मोर, नृत्य से विरत क्यों,
क्या तबियत नासाज़ l
अहा, मयूरी दिख गई,
दिन वसूल, मय-ब्याज।।

नींबू से है ,आम की,
बहस ठन गई आज l
सदियों से है, प्रेम क्यूँ,
भावों का सरताज।l

विरहन उर, भी क्यों छिड़ा,
मधुर मिलन का साज़ l
पुष्प लदे, हैं मन खिले,
” आए हैं ऋतुराज “..!

परवाज़ # उड़ान, flight
नासाज़ # अस्वस्थ, unhealthy
आग़ाज़ # शुरुआत, beginning
##————##————##————

Language: Hindi
4 Likes · 4 Comments · 68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
मैं स्त्री हूं भारत की।
मैं स्त्री हूं भारत की।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
* खूब कीजिए प्यार *
* खूब कीजिए प्यार *
surenderpal vaidya
हिन्द के बेटे
हिन्द के बेटे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
-शेखर सिंह
-शेखर सिंह
शेखर सिंह
देव दीपावली
देव दीपावली
Vedha Singh
गाल बजाना ठीक नही है
गाल बजाना ठीक नही है
Vijay kumar Pandey
कौन गया किसको पता ,
कौन गया किसको पता ,
sushil sarna
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
Shweta Soni
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
shabina. Naaz
ऐसे हंसते रहो(बाल दिवस पर)
ऐसे हंसते रहो(बाल दिवस पर)
gurudeenverma198
Moral of all story.
Moral of all story.
Sampada
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
Anand Kumar
#शुभ_दीपोत्सव
#शुभ_दीपोत्सव
*Author प्रणय प्रभात*
तिरंगा
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
सत्य सनातन गीत है गीता
सत्य सनातन गीत है गीता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जी रही हूँ
जी रही हूँ
Pratibha Pandey
“ धार्मिक असहिष्णुता ”
“ धार्मिक असहिष्णुता ”
DrLakshman Jha Parimal
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तमन्ना उसे प्यार से जीत लाना।
तमन्ना उसे प्यार से जीत लाना।
सत्य कुमार प्रेमी
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
*जल-संकट (दोहे)*
*जल-संकट (दोहे)*
Ravi Prakash
अपमान
अपमान
Dr Parveen Thakur
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
Ravikesh Jha
मैं
मैं
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
लोककवि रामचरन गुप्त एक देशभक्त कवि - डॉ. रवीन्द्र भ्रमर
लोककवि रामचरन गुप्त एक देशभक्त कवि - डॉ. रवीन्द्र भ्रमर
कवि रमेशराज
'आलम-ए-वजूद
'आलम-ए-वजूद
Shyam Sundar Subramanian
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
Paras Nath Jha
हमारा फ़र्ज
हमारा फ़र्ज
Rajni kapoor
जीवन में दिन चार मिलें है,
जीवन में दिन चार मिलें है,
Satish Srijan
Loading...