Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2017 · 1 min read

आईने ने भी सच दिखाना छोड़ दिया

मुक्तक……….

आईने ने भी सच दिखाना छोड़ दिया
सूरत को मेरी मेरा बताना छोड़ दिया
अब करे विश्वास किस पर इस दुनिया में
ज़ालिम दुनिया ने अपना बताना छोड़ दिया

कहते है आइना सच बताता है
जो है समक्ष वो ही दिखाता है
लेकिन जिस्त में दफन राज़ को
कब आइना पढ़ पाता है

भूपेंद्र रावत
18।12।2017

Language: Hindi
1 Like · 351 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
परीक्षा है सर पर..!
परीक्षा है सर पर..!
भवेश
जब तुम मिलीं - एक दोस्त से सालों बाद मुलाकात होने पर ।
जब तुम मिलीं - एक दोस्त से सालों बाद मुलाकात होने पर ।
Dhriti Mishra
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
Bhupendra Rawat
नन्ही भिखारन!
नन्ही भिखारन!
कविता झा ‘गीत’
The most awkward situation arises when you lie between such
The most awkward situation arises when you lie between such
Sukoon
"गरीबों की दिवाली"
Yogendra Chaturwedi
एकतरफ़ा इश्क
एकतरफ़ा इश्क
Dipak Kumar "Girja"
रंगमंच
रंगमंच
लक्ष्मी सिंह
भगवान कहाँ है तू?
भगवान कहाँ है तू?
Bodhisatva kastooriya
क्यों तुमने?
क्यों तुमने?
Dr. Meenakshi Sharma
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
Kumar lalit
कर
कर
Neelam Sharma
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
सूरज सा उगता भविष्य
सूरज सा उगता भविष्य
Harminder Kaur
2604.पूर्णिका
2604.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
पिछले पन्ने 9
पिछले पन्ने 9
Paras Nath Jha
जिंदगी में मस्त रहना होगा
जिंदगी में मस्त रहना होगा
Neeraj Agarwal
*रिवाज : आठ शेर*
*रिवाज : आठ शेर*
Ravi Prakash
हुआ है अच्छा ही, उनके लिए तो
हुआ है अच्छा ही, उनके लिए तो
gurudeenverma198
मुकाम
मुकाम
Swami Ganganiya
बस जिंदगी है गुज़र रही है
बस जिंदगी है गुज़र रही है
Manoj Mahato
"एक ख्वाब टुटा था"
Lohit Tamta
झुकता आसमां
झुकता आसमां
शेखर सिंह
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विदाई
विदाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Loading...