Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2022 · 1 min read

आइए रहमान भाई

आइए रहमान भाई

आइए रहमान भाई,
चाय पीते हैं |

बहुत दिन से सुन रहे हैं,
अब इधर आते नहीं हैं,
चौधरी के गाँव से होकर
कहीं जाते नहीं हैं,
जो हुआ सो हो गया,
बातें पुरानी छोड़ दें,
अब नए संबंध के
ओहार सीते हैं |

सोचिए हर दिन सुबह
सूरज निकलता है,
वायुमंडल की नमी पर
वो पिघलता है,
भूलकर मतभेद पिछले,
मित्रता की देहरी पर,
नया जीवन आज हम मिल-
बैठ जीते हैं |

चार धामों का बना है, जो
यहाँ परिवार अपना,
‘एक होकर हम रहें’ यह
देखते हैं सौम्य सपना,
दूरियाँ मन की हटाएँ,
मंच पर हम एक आएँ,
पात्र धैर्यों के भरें, जो
आज रीते हैं |

शिवानन्द सिंह ‘सहयोगी’
मेरठ

Language: Hindi
249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*** शुक्रगुजार हूँ ***
*** शुक्रगुजार हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
Midnight success
Midnight success
Bidyadhar Mantry
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
Dr Archana Gupta
सेवा
सेवा
ओंकार मिश्र
दिल की भाषा
दिल की भाषा
Ram Krishan Rastogi
माता की महिमा
माता की महिमा
SHAILESH MOHAN
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
gurudeenverma198
Today's Thought
Today's Thought
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
AMRESH KUMAR VERMA
मदनोत्सव
मदनोत्सव
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
shabina. Naaz
मतदान से, हर संकट जायेगा;
मतदान से, हर संकट जायेगा;
पंकज कुमार कर्ण
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि  ...फेर सेंसर ..
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि ...फेर सेंसर .."पद्
DrLakshman Jha Parimal
स्वयंसिद्धा
स्वयंसिद्धा
ऋचा पाठक पंत
बदलियां
बदलियां
surenderpal vaidya
पर्वत को आसमान छूने के लिए
पर्वत को आसमान छूने के लिए
उमेश बैरवा
"गाली"
Dr. Kishan tandon kranti
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
पूर्वार्थ
दोहे - झटपट
दोहे - झटपट
Mahender Singh
3284.*पूर्णिका*
3284.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
मैं
मैं "लूनी" नही जो "रवि" का ताप न सह पाऊं
ruby kumari
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पहचान
पहचान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
Anil chobisa
बह्र - 1222-1222-122 मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन काफ़िया - आ रदीफ़ -है।
बह्र - 1222-1222-122 मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन काफ़िया - आ रदीफ़ -है।
Neelam Sharma
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
VINOD CHAUHAN
Loading...