Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2024 · 1 min read

आंसू तुम्हे सुखाने होंगे।

आंसू तुम्हे सुखाने होंगे।

डूब गए यदि इनके भीतर, पूरी दुनियां धुंधलाएगी,
एकाधिक यदि मिले सहारे, बाकी वसुधा कतराएगी,
सबको भय लगता है भय से, सबके पास बहाने होंगे।
आंसू तुम्हे सुखाने होंगे।

नहीं जरूरी हवा रेशमी, औषध ले उपचार करेगी,
रिसते रक्त को रोक सकेगी, बाल सखा व्यवहार करेगी,
हवा खुरदुरी भी होती है, तुमको घाव छुपाने होंगे।
आंसू तुम्हे सुखाने होंगे।

पल जो प्रेत बने हैं उनसे, घिर जाओगे अकुलाओगे,
छाया नृत्य करेंगे उनको देखोगे, घबरा जाओगे,
साहस के मंत्रों के जाप से, सारे तुम्हे जलाने होंगे।
आंसू तुम्हे सुखाने होंगे।

Kumar Kalhans

Language: Hindi
Tag: गीत
21 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं अपने आप को समझा न पाया
मैं अपने आप को समझा न पाया
Manoj Mahato
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
पूर्वार्थ
दोहा
दोहा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
राम राम सिया राम
राम राम सिया राम
नेताम आर सी
" रात "
Dr. Kishan tandon kranti
बुरा लगे तो मेरी बहन माफ करना
बुरा लगे तो मेरी बहन माफ करना
Rituraj shivem verma
माँ i love you ❤ 🤰
माँ i love you ❤ 🤰
Swara Kumari arya
*बेचारे पति जानते, महिमा अपरंपार (हास्य कुंडलिया)*
*बेचारे पति जानते, महिमा अपरंपार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मैं कुछ सोच रहा था
मैं कुछ सोच रहा था
Swami Ganganiya
शिव आराध्य राम
शिव आराध्य राम
Pratibha Pandey
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
ज़िंदगी जीने के लिये क्या चाहिए.!
शेखर सिंह
दीप आशा के जलें
दीप आशा के जलें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
14, मायका
14, मायका
Dr .Shweta sood 'Madhu'
अधूरे रह गये जो स्वप्न वो पूरे करेंगे
अधूरे रह गये जो स्वप्न वो पूरे करेंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
3054.*पूर्णिका*
3054.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राम का चिंतन
राम का चिंतन
Shashi Mahajan
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
कार्तिक नितिन शर्मा
माँ
माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
कमीना विद्वान।
कमीना विद्वान।
Acharya Rama Nand Mandal
■ बदलता दौर, बदलती कहावतें।।
■ बदलता दौर, बदलती कहावतें।।
*प्रणय प्रभात*
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चॅंद्रयान
चॅंद्रयान
Paras Nath Jha
दान
दान
Neeraj Agarwal
मोहन वापस आओ
मोहन वापस आओ
Dr Archana Gupta
*नियति*
*नियति*
Harminder Kaur
यायावर
यायावर
Satish Srijan
सरस्वती वंदना-2
सरस्वती वंदना-2
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
टिप्पणी
टिप्पणी
Adha Deshwal
Loading...