Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jan 2023 · 1 min read

आंसूओं की नहीं

किसी की आंखों में
आंसूओं की नहीं,
मुस्कुराहट की
वजह बने ।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
17 Likes · 266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
ये नयी सभ्यता हमारी है
ये नयी सभ्यता हमारी है
Shweta Soni
■ असलियत
■ असलियत
*Author प्रणय प्रभात*
नहीं लगता..
नहीं लगता..
Rekha Drolia
है वही, बस गुमराह हो गया है…
है वही, बस गुमराह हो गया है…
Anand Kumar
भूल कर
भूल कर
Dr fauzia Naseem shad
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-321💐
💐प्रेम कौतुक-321💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ईद आ गई है
ईद आ गई है
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक,  तूँ  है
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक, तूँ है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2615.पूर्णिका
2615.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मीलों का सफर तय किया है हमने
मीलों का सफर तय किया है हमने
कवि दीपक बवेजा
चाँदनी में नहाती रही रात भर
चाँदनी में नहाती रही रात भर
Dr Archana Gupta
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
Seema gupta,Alwar
"कवि"
Dr. Kishan tandon kranti
कहां पता था
कहां पता था
dks.lhp
"बेरंग शाम का नया सपना" (A New Dream on a Colorless Evening)
Sidhartha Mishra
बांते
बांते
Punam Pande
पग बढ़ाते चलो
पग बढ़ाते चलो
surenderpal vaidya
होली
होली
लक्ष्मी सिंह
तुम नफरत करो
तुम नफरत करो
Harminder Kaur
नारी रखे है पालना l
नारी रखे है पालना l
अरविन्द व्यास
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
Rita Singh
अजनबी !!!
अजनबी !!!
Shaily
दिल है या दिल्ली?
दिल है या दिल्ली?
Shekhar Chandra Mitra
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
International Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
कोई मंझधार में पड़ा है
कोई मंझधार में पड़ा है
VINOD CHAUHAN
Loading...