Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2016 · 1 min read

आंसुओं की सूई लेकर

अर्ज किया है-
कई दाग लिए जीता हूँ ।
घूँट दर्द के पीता हूँ ।
दुनिया छल्ली कर फाड़ती है आत्मा के कपड़ों को जब भी
आंसुओं की सूई लेकर शोंक से सीता हूँ ।

Language: Hindi
Tag: शेर
503 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from कृष्ण मलिक अम्बाला
View all
You may also like:
जिंदगी
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
Neelam Sharma
इससे ज़्यादा
इससे ज़्यादा
Dr fauzia Naseem shad
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
औरत की नजर
औरत की नजर
Annu Gurjar
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
Shubham Pandey (S P)
2403.पूर्णिका
2403.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
■ सामयिक आलेख-
■ सामयिक आलेख-
*Author प्रणय प्रभात*
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं तो महज तकदीर हूँ
मैं तो महज तकदीर हूँ
VINOD CHAUHAN
💐प्रेम कौतुक-388💐
💐प्रेम कौतुक-388💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लंबा सफ़र
लंबा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
Charu Mitra
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इनको साधे सब सधें, न्यारे इनके  ठाट।
इनको साधे सब सधें, न्यारे इनके ठाट।
दुष्यन्त 'बाबा'
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
Bodhisatva kastooriya
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आदमी हैं जी
आदमी हैं जी
Neeraj Agarwal
What consumes your mind controls your life
What consumes your mind controls your life
पूर्वार्थ
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
तुम क्या जानो
तुम क्या जानो"
Satish Srijan
"यदि"
Dr. Kishan tandon kranti
एक शख्स
एक शख्स
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
** सुख और दुख **
** सुख और दुख **
Swami Ganganiya
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
गौण हुईं अनुभूतियाँ,
गौण हुईं अनुभूतियाँ,
sushil sarna
Loading...