Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

आंसुओं का मंजर है देखा

**** आंसुओं का मंजर है देखा ****
*****************************

आंखों में आंसुओं का मंजर है देखा,
टूटा दिल प्यार में जो बंजर है देखा|

फूलों से खूब खिलते मुरझाये उपवन,
मौसम भी लाजवाबी अंदर है देखा|

मन की बागवानी मौजी के हाथों में,
तितली पर लूटता यूं भंवर है देखा|

आंचल में कूदता रहता मोहन हरदम,
हमने तो आशिकों सा बंदर है देखा|

पागल सा हाल है मनमौजी प्रेमी का,
पावन सा प्रेम का भी मंदिर है देखा|

नभ में है टूटते तारों सा मनसीरत,
उनकी तकदीर में अब नंबर है देखा|
****************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Language: Hindi
80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सच तो ये भी है
सच तो ये भी है
शेखर सिंह
कलम वो तलवार है ,
कलम वो तलवार है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जीवन
जीवन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जिंदगी कभी रुकती नहीं, वो तो
जिंदगी कभी रुकती नहीं, वो तो
Befikr Lafz
वहाॅं कभी मत जाईये
वहाॅं कभी मत जाईये
Paras Nath Jha
मर्दुम-बेज़ारी
मर्दुम-बेज़ारी
Shyam Sundar Subramanian
मन की डायरी
मन की डायरी
Surinder blackpen
वृक्ष की संवेदना
वृक्ष की संवेदना
Dr. Vaishali Verma
*जुदाई न मिले किसी को*
*जुदाई न मिले किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम्हारी बातों में ही
तुम्हारी बातों में ही
हिमांशु Kulshrestha
"नहीं देखने हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
हारो बेशक कई बार,हार के आगे झुको नहीं।
हारो बेशक कई बार,हार के आगे झुको नहीं।
Neelam Sharma
जो नहीं मुमकिन था, वो इंसान सब करता गया।
जो नहीं मुमकिन था, वो इंसान सब करता गया।
सत्य कुमार प्रेमी
करगिल के वीर
करगिल के वीर
Shaily
पीपल बाबा बूड़ा बरगद
पीपल बाबा बूड़ा बरगद
Dr.Pratibha Prakash
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
Anis Shah
बता तूं उसे क्यों बदनाम किया जाए
बता तूं उसे क्यों बदनाम किया जाए
Keshav kishor Kumar
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
पूर्वार्थ
इम्तिहान
इम्तिहान
Saraswati Bajpai
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* भैया दूज *
* भैया दूज *
surenderpal vaidya
झुक कर दोगे मान तो,
झुक कर दोगे मान तो,
sushil sarna
दिनकर/सूर्य
दिनकर/सूर्य
Vedha Singh
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Sakshi Tripathi
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
फूल कभी भी बेजुबाॅ॑ नहीं होते
VINOD CHAUHAN
#गीत-
#गीत-
*प्रणय प्रभात*
सब कुछ दुनिया का दुनिया में,     जाना सबको छोड़।
सब कुछ दुनिया का दुनिया में, जाना सबको छोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
3651.💐 *पूर्णिका* 💐
3651.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
सावन आने को है लेकिन दिल को लगता है पतझड़ की आहट है ।
सावन आने को है लेकिन दिल को लगता है पतझड़ की आहट है ।
Ashwini sharma
Loading...