Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2023 · 1 min read

आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,

आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
उसके बाद फिर शायद ही उसे
कुछ देखना भाया…✍️

291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेघों का मेला लगा,
मेघों का मेला लगा,
sushil sarna
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
आर एस आघात
سب کو عید مبارک ہو،
سب کو عید مبارک ہو،
DrLakshman Jha Parimal
कविता
कविता
Shiva Awasthi
💐प्रेम कौतुक-357💐
💐प्रेम कौतुक-357💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*बिरहा की रात*
*बिरहा की रात*
Pushpraj Anant
Scattered existence,
Scattered existence,
पूर्वार्थ
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
श्याम सिंह बिष्ट
भोर
भोर
Kanchan Khanna
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुशादा
कुशादा
Mamta Rani
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
अंसार एटवी
दिल से रिश्ते
दिल से रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
23/18.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/18.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पहला प्यार
पहला प्यार
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
नहीं मैं ऐसा नहीं होता
नहीं मैं ऐसा नहीं होता
gurudeenverma198
सूर्यदेव
सूर्यदेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
Sadhavi Sonarkar
मैं पढ़ता हूं
मैं पढ़ता हूं
डॉ० रोहित कौशिक
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
- रिश्तों को में तोड़ चला -
- रिश्तों को में तोड़ चला -
bharat gehlot
सच ही सच
सच ही सच
Neeraj Agarwal
जब निहत्था हुआ कर्ण
जब निहत्था हुआ कर्ण
Paras Nath Jha
बस यूँ ही...
बस यूँ ही...
Neelam Sharma
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक समीक्षा*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक समीक्षा*
Ravi Prakash
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
#परिहास-
#परिहास-
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन ज्योति
जीवन ज्योति
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
स्वभाव
स्वभाव
अखिलेश 'अखिल'
Loading...