Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 1 min read

आंख खोलो और देख लो

पुलिस से लेकर फौज तक
अदालत से लेकर सरकार तक
तुम्हारी गर्दन पर किसकी लात है
तुम्हारे गिरेबान पर किसका हाथ है
आंख खोलो और देख लो
सब कुछ इतना साफ है…
(१)
कालेज से लेकर अस्पताल तक
मंदिर से लेकर बाजार तक
कौन तुम्हारे लिए अभिशाप है
कौन तुम्हारे लिए सौगात है
आंख खोलो और देख लो
सब कुछ इतना साफ है…
(२)
अदब से लेकर फन तक
सिनेमा से लेकर अखबार तक
कौन तुम्हारे साथ है
कौन तुम्हारे खिलाफ है
आंख खोलो और देख लो
सब कुछ इतना साफ है…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#इंकलाबी #मुठभेड़ #क्रांतिकारी
#इंसाफ #marshallaw #विपक्ष
#कवि #Opposition #politics
#bollywood #public #youths
#farmers #Labour #lyricist
#शायर #गीतकार #जनता #दलित

Language: Hindi
Tag: गीत
405 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वह कौन सा नगर है ?
वह कौन सा नगर है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
प्रेम
प्रेम
Mamta Rani
मन को जो भी जीत सकेंगे
मन को जो भी जीत सकेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हाय गरीबी जुल्म न कर
हाय गरीबी जुल्म न कर
कृष्णकांत गुर्जर
आज तुम्हारे होंठों का स्वाद फिर याद आया ज़िंदगी को थोड़ा रोक क
आज तुम्हारे होंठों का स्वाद फिर याद आया ज़िंदगी को थोड़ा रोक क
पूर्वार्थ
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
Ajay Kumar Vimal
हंसी मुस्कान
हंसी मुस्कान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हथेली पर जो
हथेली पर जो
लक्ष्मी सिंह
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
कविता झा ‘गीत’
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
Vishal babu (vishu)
*समझौता*
*समझौता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दुआ नहीं होना
दुआ नहीं होना
Dr fauzia Naseem shad
नैन
नैन
TARAN VERMA
खुश है हम आज क्यों
खुश है हम आज क्यों
gurudeenverma198
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
Gouri tiwari
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
गलत और सही
गलत और सही
Radhakishan R. Mundhra
"चुभती सत्ता "
DrLakshman Jha Parimal
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
Rj Anand Prajapati
खाने पुराने
खाने पुराने
Sanjay ' शून्य'
कैसे कह दें?
कैसे कह दें?
Dr. Kishan tandon kranti
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
बाग़ी
बाग़ी
Shekhar Chandra Mitra
3442🌷 *पूर्णिका* 🌷
3442🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
केवल पंखों से कभी,
केवल पंखों से कभी,
sushil sarna
Loading...