Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2024 · 1 min read

आंखों से अश्क बह चले

आंखों से अश्क बह चले तो यूं छुपा लिए
पलकों को बंद कर लिया और मुस्कुरा दिए

जब भी वफ़ा के नाम पर मन में उठे सवाल
जब भी तुम्हें भुलाने का आया कोई ख़याल
दिल ने तड़प के ये कहा ऐसा न कीजिए
पलकों को बंद कर लिया…

कैसे हैं इम्तिहान ये उल्फ़त के नाम पर
तुमने भी ला दिया मुझे कैसे मुकाम पर
काली घनी है रात और बुझते हुए दिए
पलकों को बंद कर लिया…

रहने दे इश्क़ के अभी थोड़े बहुत भरम
मुझको ख़ुशी नहीं मिली इसका नहीं है ग़म
उसको ख़ुशी मिले मगर जिसे सितम किये
पलकों को बंद कर लिया…

— शिवकुमार बिलगरामी

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"इफ़्तिताह" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पश्चाताप का खजाना
पश्चाताप का खजाना
अशोक कुमार ढोरिया
अर्ज किया है
अर्ज किया है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
Rj Anand Prajapati
क्रूरता की हद पार
क्रूरता की हद पार
Mamta Rani
अध्यात्म
अध्यात्म
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Peace peace
Peace peace
Poonam Sharma
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
अच्छा लगना
अच्छा लगना
Madhu Shah
दोषी कौन?
दोषी कौन?
Indu Singh
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
Vandna Thakur
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
Shashi kala vyas
कोशिश न करना
कोशिश न करना
surenderpal vaidya
ग़ज़ल/नज़्म - दिल में ये हलचलें और है शोर कैसा
ग़ज़ल/नज़्म - दिल में ये हलचलें और है शोर कैसा
अनिल कुमार
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
शेखर सिंह
यूं ना कर बर्बाद पानी को
यूं ना कर बर्बाद पानी को
Ranjeet kumar patre
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
पूर्वार्थ
शतरंज
शतरंज
भवेश
2450.पूर्णिका
2450.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अकेला गया था मैं
अकेला गया था मैं
Surinder blackpen
"दरवाजा"
Dr. Kishan tandon kranti
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
सत्य कुमार प्रेमी
میں ہوں تخلیق اپنے ہی رب کی ۔۔۔۔۔۔۔۔۔
میں ہوں تخلیق اپنے ہی رب کی ۔۔۔۔۔۔۔۔۔
Dr fauzia Naseem shad
आजकल / (नवगीत)
आजकल / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रेम【लघुकथा】*
प्रेम【लघुकथा】*
Ravi Prakash
नहीं विश्वास करते लोग सच्चाई भुलाते हैं
नहीं विश्वास करते लोग सच्चाई भुलाते हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
Lines of day
Lines of day
Sampada
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
लक्ष्मी सिंह
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Loading...