Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2023 · 1 min read

आंखों में तिरी जाना…

आंखों में तिरी जाना कुछ ख्वाब जो पलते है
मजमून लिफाफे का हम खूब समझते है

बारिश का ज़माना है, मौसम भी सुहाना हैं
मिट्टी के मकाँ वाले, बरसात से डरते हैं

गुल कैद है कमरे में पूरा य़ह भरोसा है
खिड़की पे कई भंवरे दिन रात मचलते हैं

कमज़ोर समझते हो, ऐसे तो नहीं हैं हम
हम अम्न के रखवाले इस देश पे मरते हैं

कपड़ों में जो बाज़ू थे, उन सबको कटा डाला
कुछ दोस्त हमारे अब बेचैन से रहते है

मरहम का तिरे अरशद एहसान नहीं लेना
यह जख्म जो दिल के हैं कुछ देर से भरते हैं

138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पर्यावरण दिवस
पर्यावरण दिवस
Satish Srijan
2373.पूर्णिका
2373.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गिरमिटिया मजदूर
गिरमिटिया मजदूर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
Sahil Ahmad
भव्य भू भारती
भव्य भू भारती
लक्ष्मी सिंह
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
ओम के दोहे
ओम के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बंधे रहे संस्कारों से।
बंधे रहे संस्कारों से।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
Ajay Shekhavat
राम जपन क्यों छोड़ दिया
राम जपन क्यों छोड़ दिया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आइसक्रीम
आइसक्रीम
Neeraj Agarwal
जरुरी है बहुत जिंदगी में इश्क मगर,
जरुरी है बहुत जिंदगी में इश्क मगर,
शेखर सिंह
*धन को चाहें निम्न जन ,उच्च लोग सम्मान ( कुंडलिया )*
*धन को चाहें निम्न जन ,उच्च लोग सम्मान ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
Sangeeta Beniwal
दीवानगी
दीवानगी
Shyam Sundar Subramanian
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
चलते-चलते...
चलते-चलते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
Manisha Manjari
मन मंदिर के कोने से
मन मंदिर के कोने से
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पिताजी हमारे
पिताजी हमारे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
"लोग क्या कहेंगे" सोच कर हताश मत होइए,
Radhakishan R. Mundhra
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
जो चाकर हैं राम के
जो चाकर हैं राम के
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
पहला सुख निरोगी काया
पहला सुख निरोगी काया
जगदीश लववंशी
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
Suraj kushwaha
किताबे पढ़िए!!
किताबे पढ़िए!!
पूर्वार्थ
Loading...