Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

आंखें मेरी तो नम हो गई है

गीत – आँखें मेरी तो नम हो गई है।

दास्तान मेरी जब से..
खत्म हो गई है-२
आँखें मेरी तो…२
नम हो गई है।।
दास्तान मेरी जब से…
खत्म हो गई है..
आँखें मेरी तो..नम हो गई है।२

मेरी मोहब्बत..मेरी चाहत पे शक था।
देखा जब मुड़ कर मुझ पे..
किसी और का हक था-२
भूले हैं वादे नयी कसम हो गई है।-२
आँखें मेरी तो…नम हो गई है।-२

झूठी थी सारी रश्में..झूठ था मुस्कराना।
मेरी दिल्लगी में तेरा….
सिर्फ था आजमाना-२
जिंदगी मेरी ताजा जख्म हो गई है।-२
आँखें मेरी तो…नम हो गई है।-२

अब तेरी दुनिया में हम..लौट कर ना आएँगे।
जख्मी है दिल मेरा…
बस आँसू बहाएंगें-२
सादगी भी तेरी बेरहम हो गई है।-२
आँखें मेरी तो…नम हो गई है।-२

कैसे रहूँगा कैसे जिंदगी बिताऊंगा।
वादा है तेरी कभी…
गलियों में न आऊँगा-२
“मुसाफिर” तेरी उम्र कम हो गई है।-२
आँखें मेरी तो…नम हो गई है।-२

दास्तान मेरी जब से…
खत्म हो गई है।
आँखें मेरी तो…नम हो गई है।-२

रोहताश वर्मा “मुसाफिर”

1 Like · 326 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नशीली आंखें
नशीली आंखें
Shekhar Chandra Mitra
वो छोड़ गया था जो
वो छोड़ गया था जो
Shweta Soni
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
Paras Nath Jha
* भोर समय की *
* भोर समय की *
surenderpal vaidya
तुम मेरे बाद भी
तुम मेरे बाद भी
Dr fauzia Naseem shad
The Moon and Me!!
The Moon and Me!!
Rachana
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
लोग आसमां की तरफ देखते हैं
लोग आसमां की तरफ देखते हैं
VINOD CHAUHAN
नील पदम् के बाल गीत Neel Padam ke Bal Geet #neelpadam
नील पदम् के बाल गीत Neel Padam ke Bal Geet #neelpadam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
निराशा क्यों?
निराशा क्यों?
Sanjay ' शून्य'
सफल हस्ती
सफल हस्ती
Praveen Sain
सुहागरात की परीक्षा
सुहागरात की परीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रीत निभाना
प्रीत निभाना
Pratibha Pandey
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
संजय कुमार संजू
कम आ रहे हो ख़़्वाबों में आजकल,
कम आ रहे हो ख़़्वाबों में आजकल,
Shreedhar
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
कृष्ण मलिक अम्बाला
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
Keshav kishor Kumar
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
बट विपट पीपल की छांव ??
बट विपट पीपल की छांव ??
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सहसा यूं अचानक आंधियां उठती तो हैं अविरत,
सहसा यूं अचानक आंधियां उठती तो हैं अविरत,
Abhishek Soni
कुछ नहीं.......!
कुछ नहीं.......!
विमला महरिया मौज
दृष्टिबाधित भले हूँ
दृष्टिबाधित भले हूँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"झूठी है मुस्कान"
Pushpraj Anant
भारत को निपुण बनाओ
भारत को निपुण बनाओ
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2973.*पूर्णिका*
2973.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शर्ट के टूटे बटन से लेकर
शर्ट के टूटे बटन से लेकर
Ranjeet kumar patre
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
सत्य कुमार प्रेमी
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
Jyoti Khari
संवेदनहीन
संवेदनहीन
अखिलेश 'अखिल'
Loading...