Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2024 · 1 min read

आँसू छलके आँख से,

आँसू छलके आँख से,
जब-जब आई याद ।
अंतस के हर दर्द का ,
खूब हुआ अनुवाद ।।

सुशील सरना / 11-3-24

1 Like · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्राप्त हो जिस रूप में
प्राप्त हो जिस रूप में
Dr fauzia Naseem shad
जल खारा सागर का
जल खारा सागर का
Dr Nisha nandini Bhartiya
प्रणय गीत --
प्रणय गीत --
Neelam Sharma
साहस है तो !
साहस है तो !
Ramswaroop Dinkar
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
लक्ष्मी सिंह
बेटियां
बेटियां
Dr Parveen Thakur
*** आकांक्षा : एक पल्लवित मन...! ***
*** आकांक्षा : एक पल्लवित मन...! ***
VEDANTA PATEL
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
दौलत से सिर्फ
दौलत से सिर्फ"सुविधाएं"मिलती है
नेताम आर सी
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
*रेल हादसा*
*रेल हादसा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Style of love
Style of love
Otteri Selvakumar
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
वही हसरतें वही रंजिशे ना ही दर्द_ए_दिल में कोई कमी हुई
वही हसरतें वही रंजिशे ना ही दर्द_ए_दिल में कोई कमी हुई
शेखर सिंह
"आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
व्यापार नहीं निवेश करें
व्यापार नहीं निवेश करें
Sanjay ' शून्य'
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
Ragini Kumari
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
#ॐ_नमः_शिवाय
#ॐ_नमः_शिवाय
*Author प्रणय प्रभात*
उसका-मेरा साथ सुहाना....
उसका-मेरा साथ सुहाना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं बनना चाहता हूँ तुम्हारा प्रेमी,
मैं बनना चाहता हूँ तुम्हारा प्रेमी,
Dr. Man Mohan Krishna
"YOU ARE GOOD" से शुरू हुई मोहब्बत "YOU
nagarsumit326
गीत प्रतियोगिता के लिए
गीत प्रतियोगिता के लिए
Manisha joshi mani
बाल कविताः गणेश जी
बाल कविताः गणेश जी
Ravi Prakash
हर खुशी को नजर लग गई है।
हर खुशी को नजर लग गई है।
Taj Mohammad
★संघर्ष जीवन का★
★संघर्ष जीवन का★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
प्रेमचन्द के पात्र अब,
प्रेमचन्द के पात्र अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...