Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2023 · 1 min read

आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम

आँखों में सुरमा, लगातीं हों जब तुम
बुलबुल के जैसे, शर्माती हों जब तुम
कोयला सा गीत, गाती हों जब तुम
अपनी इन खूबसूरत अदाओं से, ना जाने कैसे
मेरे दिल की पतंग को काट जाती हों जब तुम

गालों की लाली, मनमोहन तुम्हारी
वो प्यारी सी बाली, मनमोहन तुम्हारी
हस्ती हों खुलकर, जब छोटे बच्चे के जैसे
इस दिल को नागिन के तरह , डस जाती हों जब तुम

जुल्फों बिखेरे, चलती हों जब तुम
चोरी चोरी मुझको, क्यू तकती को जब तुम
वो प्यारा सा तिल है , बिल्कुल ही क़ातिल
मासूम लड़के का कत्ल, करके ही मानोगे अब तुम

✍️ The_dk_poetry

1 Like · 279 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुंडलिया ....
कुंडलिया ....
sushil sarna
*हिम्मत जिंदगी की*
*हिम्मत जिंदगी की*
Naushaba Suriya
पराया हुआ मायका
पराया हुआ मायका
विक्रम कुमार
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
जगदीश लववंशी
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
gurudeenverma198
दोस्ती के नाम
दोस्ती के नाम
Dr. Rajeev Jain
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
Vijay Nayak
समाज को जगाने का काम करते रहो,
समाज को जगाने का काम करते रहो,
नेताम आर सी
याद - दीपक नीलपदम्
याद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कुंडलिया छंद *
कुंडलिया छंद *
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
* रेल हादसा *
* रेल हादसा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
लटकते ताले
लटकते ताले
Kanchan Khanna
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गुरु तेग बहादुर जी जन्म दिवस
गुरु तेग बहादुर जी जन्म दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
निजी विद्यालयों का हाल
निजी विद्यालयों का हाल
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
जिनके अंदर जानवर पलता हो, उन्हें अलग से जानवर पालने की क्या
जिनके अंदर जानवर पलता हो, उन्हें अलग से जानवर पालने की क्या
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
शिव प्रताप लोधी
"कठपुतली"
Dr. Kishan tandon kranti
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
सच कहा था किसी ने की आँखें बहुत बड़ी छलिया होती हैं,
सच कहा था किसी ने की आँखें बहुत बड़ी छलिया होती हैं,
Sukoon
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
Lakhan Yadav
दोहा
दोहा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
कार्तिक नितिन शर्मा
*बरगद (बाल कविता)*
*बरगद (बाल कविता)*
Ravi Prakash
संतोष करना ही आत्मा
संतोष करना ही आत्मा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ज़िन्दगी के
ज़िन्दगी के
Santosh Shrivastava
गुरु कृपा
गुरु कृपा
Satish Srijan
स्मृतिशेष मुकेश मानस : टैलेंटेड मगर अंडररेटेड दलित लेखक / MUSAFIR BAITHA 
स्मृतिशेष मुकेश मानस : टैलेंटेड मगर अंडररेटेड दलित लेखक / MUSAFIR BAITHA 
Dr MusafiR BaithA
Loading...