Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2024 · 1 min read

आँखों में अँधियारा छाया…

आँखों में अँधियारा छाया, मन पर घोर कुहासा है।
दुख को क्या कहना अब सबसे, दुख तो बारह मासा है।

कौन हितैषी यहाँ हमारा, किससे कुछ उम्मीद करें ?
भाग्य हमारा ही हमको जब, देता आया झाँसा है।

शुष्क अधरपुट देख हमारे, उमड़ा सागर तृषा बुझाने,
ठुकराया आवेदन उसका, मन को दिया दिलासा है।

रिक्त जलाशय सूखा मानस, गम-रवि ने जल सोख लिया।
नयनों में बदरा घिर आए, पंछी मन का प्यासा है।

दुख अपनी सब सेना लेकर, धावा निसदिन बोल रहा।
बैठा पग-पग डेरा डाले, जमघट अच्छा खासा है।

रूठी बैठीं खुशियाँ सारी, जाने किसकी नजर लगी।
घुमड़ रहे घन मन-अंबर में, बरस रहा चौमासा है।

दूत नियति के सेंध लगाकर, खेल बिगाड़ें पल भर में।
जब तक आस बँधे कुछ मन में, तब तक पलटे पासा है।

जबसे होश सँभाला हमने, झड़ी लगी है प्रश्नों की।
सत्य समझ न आया अब तक, घुमड़ रही जिज्ञासा है।

अपनी-अपनी कहते सारे, कैसे ‘सीमा’ बात बने।
धीरज ही अब बना सहारा, देता नित्य दिलासा है।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र. )
“अवनिका” से

3 Likes · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
प्यार समंदर
प्यार समंदर
Ramswaroop Dinkar
2409.पूर्णिका
2409.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नया साल
नया साल
Arvina
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मेरी अना को मेरी खुद्दारी कहो या ज़िम्मेदारी,
मेरी अना को मेरी खुद्दारी कहो या ज़िम्मेदारी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
फल और मेवे
फल और मेवे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बचपन में थे सवा शेर
बचपन में थे सवा शेर
VINOD CHAUHAN
सदा प्रसन्न रहें जीवन में, ईश्वर का हो साथ।
सदा प्रसन्न रहें जीवन में, ईश्वर का हो साथ।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
|| तेवरी ||
|| तेवरी ||
कवि रमेशराज
कभी तो फिर मिलो
कभी तो फिर मिलो
Davina Amar Thakral
*हनुमान के राम*
*हनुमान के राम*
Kavita Chouhan
दिल का तुमसे सवाल
दिल का तुमसे सवाल
Dr fauzia Naseem shad
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
sushil sarna
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
Anand Kumar
श्रमिक  दिवस
श्रमिक दिवस
Satish Srijan
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शैलजा छंद
शैलजा छंद
Subhash Singhai
मातु शारदे करो कल्याण....
मातु शारदे करो कल्याण....
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
Satyaveer vaishnav
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
Rashmi Ranjan
मौत का क्या भरोसा
मौत का क्या भरोसा
Ram Krishan Rastogi
*किसी से भीख लेने से, कहीं अच्छा है मर जाना (हिंदी गजल)*
*किसी से भीख लेने से, कहीं अच्छा है मर जाना (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बाखुदा ये जो अदाकारी है
बाखुदा ये जो अदाकारी है
Shweta Soni
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
In the middle of the sunflower farm
In the middle of the sunflower farm
Sidhartha Mishra
अनेक रंग जिंदगी के
अनेक रंग जिंदगी के
Surinder blackpen
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
Ranjeet kumar patre
यही जीवन है
यही जीवन है
Otteri Selvakumar
यह मौसम और कुदरत के नज़ारे हैं।
यह मौसम और कुदरत के नज़ारे हैं।
Neeraj Agarwal
Loading...