Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा है मैंने

आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा है मैंने
बेटे से बिछड़ते वक़्त बाप को रोते देखा है मैंने
शिव प्रताप लोधी

1 Like · 340 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from शिव प्रताप लोधी
View all
You may also like:
"वरना"
Dr. Kishan tandon kranti
खुदाया करम इन पे इतना ही करना।
खुदाया करम इन पे इतना ही करना।
सत्य कुमार प्रेमी
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
झुक कर दोगे मान तो,
झुक कर दोगे मान तो,
sushil sarna
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ कैसे भी पढ़ लो...
■ कैसे भी पढ़ लो...
*Author प्रणय प्रभात*
जादुई गज़लों का असर पड़ा है तेरी हसीं निगाहों पर,
जादुई गज़लों का असर पड़ा है तेरी हसीं निगाहों पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भावुक हृदय
भावुक हृदय
Dr. Upasana Pandey
पैसा बोलता है
पैसा बोलता है
Mukesh Kumar Sonkar
3177.*पूर्णिका*
3177.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
surenderpal vaidya
सफल हुए
सफल हुए
Koमल कुmari
तेरी खुशी
तेरी खुशी
Dr fauzia Naseem shad
नींद आने की
नींद आने की
हिमांशु Kulshrestha
जीवन अगर आसान नहीं
जीवन अगर आसान नहीं
Dr.Rashmi Mishra
*पर्वतों की सैर*
*पर्वतों की सैर*
sudhir kumar
पद्धरि छंद ,अरिल्ल छंद , अड़िल्ल छंद विधान व उदाहरण
पद्धरि छंद ,अरिल्ल छंद , अड़िल्ल छंद विधान व उदाहरण
Subhash Singhai
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
Rituraj shivem verma
Friendship Day
Friendship Day
Tushar Jagawat
मैं कविता लिखता हूँ तुम कविता बनाती हो
मैं कविता लिखता हूँ तुम कविता बनाती हो
Awadhesh Singh
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Shyam Sundar Subramanian
*देह बनाऊॅं धाम अयोध्या, मन में बसते राम हों (गीत)*
*देह बनाऊॅं धाम अयोध्या, मन में बसते राम हों (गीत)*
Ravi Prakash
आईना
आईना
Dr Parveen Thakur
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
Yogendra Chaturwedi
देशभक्ति पर दोहे
देशभक्ति पर दोहे
Dr Archana Gupta
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ऐसा क्यूं है??
ऐसा क्यूं है??
Kanchan Alok Malu
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...