Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2024 · 1 min read

आँखे नम हो जाती माँ,

आँखे नम हो जाती माँ,
बीत गए इक वर्ष तेरे बिन,
फिर भी याद सताती माँ,
घर का दीप जलाकर रखता,
तेरे तन की बाती माँ,
गम की आँधी तूफानों मे,
बीच खड़ी हो जाती है,
जब भी याद तुम्हे करता हूँ,
आँखे नम हो जाती माँ,
घर के शोर शराबों में भी,
थी मधुरिम शहनाई माँ,
घर के बिखरे रिश्ते नाते,
कर देती तुरपाई माँ,
तेरी कमी न पूरी होगी,
कौन करे भरपाई माँ,
कितनी बार मेरी गलती पर,
डाट तुम्ही ने खाई माँ,
अंदर से वो टूट चुकी थी,
बाहर से मुस्काती माँ,
जब भी याद तुम्हे करता हूँ,
आँखे नम हो जाती माँ,
पढ़ी नही थी,पर हर मन के,
भाव पढ़ा करती थी माँ,
मेरे खातिर बाबूजी से,
रोज लड़ा करती थी माँ,
तुमसे ही सब रोब दिखाते,
तुमसे दर्द बताते माँ,
तुमसे ही माँगा करते थे,
और तुम्ही से पाते माँ,
नींद न आती रात-रात भर,
दिन में झप्पी खाती माँ,
जब भी याद तुम्हे करता हूँ,
आँखे नम हो जाती माँ,
काश हमे तुम फिर मिल जाती,
हम तुमसे मिल पाते माँ,
जितना दर्द भरा है मन में,
सब तुमसे बतलाते माँ,
तुमसे ही अपनी जिद सारी,
फिर पूरी करवाते माँ,
तेरे हाँथों की रोटी फिर,
माँग-माँग कर खाते माँ,
तुम सुशील के शब्द-शब्द पर,
संस्कार की थाती माँ,
जब भी याद तुम्हे करता हूँ,
आँखे नम हो जाती माँ,

29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*युगों-युगों से देश हमारा, भारत ही कहलाता है (गीत)*
*युगों-युगों से देश हमारा, भारत ही कहलाता है (गीत)*
Ravi Prakash
और तुम कहते हो मुझसे
और तुम कहते हो मुझसे
gurudeenverma198
शेर ग़ज़ल
शेर ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
मन
मन
Punam Pande
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अंतर्मन
अंतर्मन
Dr. Mahesh Kumawat
* कुछ लोग *
* कुछ लोग *
surenderpal vaidya
عيشُ عشرت کے مکاں
عيشُ عشرت کے مکاں
अरशद रसूल बदायूंनी
पहचान तो सबसे है हमारी,
पहचान तो सबसे है हमारी,
पूर्वार्थ
बढ़े चलो ऐ नौजवान
बढ़े चलो ऐ नौजवान
नेताम आर सी
जिसके लिए कसीदे गढ़ें
जिसके लिए कसीदे गढ़ें
DrLakshman Jha Parimal
पेट लव्हर
पेट लव्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
Raju Gajbhiye
ट्रेन दुर्घटना
ट्रेन दुर्घटना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
रेत और जीवन एक समान हैं
रेत और जीवन एक समान हैं
राजेंद्र तिवारी
"सपने"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ओ मैना चली जा चली जा
ओ मैना चली जा चली जा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
अच्छी यादें सम्भाल कर रखा कीजिए
अच्छी यादें सम्भाल कर रखा कीजिए
नूरफातिमा खातून नूरी
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
कर्म का फल
कर्म का फल
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
तुझसे रिश्ता
तुझसे रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
2500.पूर्णिका
2500.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
टूटे पैमाने ......
टूटे पैमाने ......
sushil sarna
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
Sanjay ' शून्य'
नसीब में था अकेलापन,
नसीब में था अकेलापन,
Umender kumar
Loading...