Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 22, 2016 · 1 min read

आँखें नम थी मगर मुस्कुराते रहे

दौरे गम में भी सबको हंसाते रहे .
आँखें नम थी मगर मुस्कुराते रहे .
किसमें हिम्मत जो हमपे सितम ढा सके .
वो तो अपने ही थे जो सताते रहे
जिन लबों को मुकम्मल हँसी हमने दी .
वो ही किस्तों में हमको रुलाते रहे .
उनको हमने सिखाया कदम रोपना .
जो हमें हर कदम पे गिराते रहे .
काश !मापतपुरी उनसे मिलते नहीं .
जो मिलाके नज़र फिर चुराते रहे .

——- सतीश मापतपुरी

2 Comments · 109 Views
You may also like:
मैं कौन हूँ
Vikas Sharma'Shivaaya'
दरिंदगी से तो भ्रूण हत्या ही अच्छी
Dr Meenu Poonia
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शायद मुझसा चोर नहीं मिल सकेगा
gurudeenverma198
ख़ुद ही हालात समझने की नज़र देता है,
Aditya Shivpuri
धन-दौलत
AMRESH KUMAR VERMA
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
अख़बार
आकाश महेशपुरी
लॉकडाउन गीतिका
Ravi Prakash
हाँ, वह "पिता" है ...........
Mahesh Ojha
आकार ले रही हूं।
Taj Mohammad
पिता
Aruna Dogra Sharma
पिता
Rajiv Vishal
मां से बिछड़ने की व्यथा
Dr. Alpa H. Amin
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
यह कौन सा विधान है
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हिरण
Buddha Prakash
बेबस पिता
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सुमंगल कामना
Dr.sima
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
सुहावना मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
"अशांत" शेखर
“ THANKS नहि श्रेष्ठ केँ प्रणाम करू “
DrLakshman Jha Parimal
पहले वाली मोहब्बत।
Taj Mohammad
पत्र का पत्रनामा
Manu Vashistha
क्या नाम दे ?
Taj Mohammad
Loading...