Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2016 · 1 min read

आँखें नम थी मगर मुस्कुराते रहे

दौरे गम में भी सबको हंसाते रहे .
आँखें नम थी मगर मुस्कुराते रहे .
किसमें हिम्मत जो हमपे सितम ढा सके .
वो तो अपने ही थे जो सताते रहे
जिन लबों को मुकम्मल हँसी हमने दी .
वो ही किस्तों में हमको रुलाते रहे .
उनको हमने सिखाया कदम रोपना .
जो हमें हर कदम पे गिराते रहे .
काश !मापतपुरी उनसे मिलते नहीं .
जो मिलाके नज़र फिर चुराते रहे .

——- सतीश मापतपुरी

2 Comments · 153 Views
You may also like:
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
*सही से यदि फॅंसा फंदा, तो फिर टाले न टलता...
Ravi Prakash
गुफ्तगू की अहमियत , अब क्या ख़ाक होगी ।
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
सेमल
लक्ष्मी सिंह
बुंदेली दोहा- बिषय -अबेर (देर)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फेहरिस्त।
Taj Mohammad
तितलियाँ
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
🌸✴️कोई सवाल तो छोड़ना मेरे लिए✴️🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बुद्धिमत्ता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
देश हे अपना
Swami Ganganiya
■ ग़ज़ल / अब मेटी नादानी देख...!
*Author प्रणय प्रभात*
💐एय मेरी ज़ाने ग़ज़ल💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हे सड़क तुम्हें प्रणाम
मानक लाल"मनु"
झुग्गी वाले
Shekhar Chandra Mitra
एक पत्रकार ( #हिन्दी_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कभी न करना उससे, उसकी नेमतों का गिला ।
Dr fauzia Naseem shad
मिथ्या मार्ग का फल
AMRESH KUMAR VERMA
ਹਕੀਕਤ ਵਿੱਚ
Kaur Surinder
वो इश्क है किस काम का
Ram Krishan Rastogi
घडी़ की टिक-टिक⏱️⏱️
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
खिड़की खुले जो तेरे आशियाने की तुझे मेरा दीदार हो...
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तुमने वफा न निभाया
Anamika Singh
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
गिरवी वर्तमान
Saraswati Bajpai
पथिक मैं तेरे पीछे आता...
मनोज कर्ण
Writing Challenge- दरवाजा (Door)
Sahityapedia
मत पूछो हमसे हिज्र की हर रात हमने गुजारी कैसे...
सुषमा मलिक "अदब"
जाड़े की दस्तक को सुनकर
Dr Archana Gupta
Loading...