Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 3 min read

अॉड – ईवन 2

“कौन आ गया सुबह सुबह”
द्वारकानाथ जी लाठी टेकते हुए दरवाजा खोलने गए और दरवाजा खुलते ही बच्चों की तरह खिलखिला उठे।
दरवाजे के दूसरी तरफ उनके कॉलेज टाइम के सहपाठी मिथिलेश प्रसाद खङे थे।दोनों गले मिले।
द्वारका जी ने आश्चर्य मिश्रित खुशी के साथ पूछा,
“मिथिला तुम इस शहर में मुझसे मिलने आए हो? पता किसने दिया? हम दोनों अपनी ढलती उम्र के चलते दो साल पहले यहाँ दिल्ली शिफ्ट हो गए बहू बेटे के साथ पर तुम्हारा नंबर खो जाने के कारण तुमको सूचना ही न दे पाया पर बहुत खुश हूँ तुमको देखकर ।कितनी सारी बातें बाकी हैं तुमसे करनी है।”
सवाल ,खुशी , उत्साह सब एक साथ बरस रहे थे।
” अरे मैं यहाँ अपने चचेरे भाई के बेटे के गृह प्रवेश में शामिल होने आया था तो कुछ दिन रोक लिया उन लोगों ने।
कल शाम तुम्हारा बेटा मुझे पार्क में मिला । उससे बात हुई तो पता चला कि वो भी पास की कॉलोनी में रहता है और तुम दोनों के यहां होने के बारे में भी उसी ने बताया।
तो मैं रुक नहीं पाया सुबह होते ही चला आया ।और देखो तुम्हारे घर आते आते चोट लगा बैठा ”
मिथिलेश जी ने कुछ कराहते हुए अपना पैंट घुटने तक चढ़ाकर दिखाया।
‘ओह ये चोट कैसे लगी ” अवाक द्वारका जी ने अपनी पत्नी को आवाज लगाई
“इंदिरा देखो मिथिला आया है और पहले जरा फर्स्ट एड बॉक्स लेते आना बाद में चाय नाश्ता .. गहरी चोट लगी है ”
अरे कुछ नहीं , मैं सड़क पार कर रहा था और तभी गलत हाथ पर आते एक स्कूटी सवार ने टक्कर मार दी । वो तो मैं पहले ही संभलकर पीछे हट रहा था तो हल्का छुलकर पीछे गिर गया और वो भी गिर गया पर उठ कर चला गया । ये चोट लग गई वरना तो हड्डी टूट जाती।”
मिथिलेश जी ने बताया।
इंदिरा जी किट ले आईं ।मरहम पट्टी होने लगी। इंदिरा जी चाय नाश्ते के लिए चलीं गईं।
” बहुत कम उम्र थी स्कूटी वाले की । बारह तेरह बरस होगी। पता नहीं क्यों मां बाप इतने छोटे बच्चों को गाङी थमा देते हैं बच्चों की भी उम्र जोखिम में डालते हैं और बाकी राहगीरों की भी।”
मिथिलेश जी ने बात आगे बढ़ाई।
” सही कह रहे हो। कोई नियम कानून नहीं। कोई फिक्र नहीं। जाने किस अंधी दौङ में भागे जा रहे हैं सब।समझ नहीं आता।
इन मां बाप को तो सजा का प्रावधान होना चाहिए तभी कुछ सुधार संभव है।”
द्वारका जी ने गंभीर मुद्रा में बात रखी।
मिथिलेश जी ने चाय की चुस्की लेते हुए कहा,
” छोङो ये बताओ बहू बेटे सब कहाँ हैं ”
“बहु बेटे दोनों नौकरी के लिए गए हैं शाम तक आएंगे और बेटा शुभ ट्यूशन पढ़ने गया है , आता ही होगा ,आज कल उसकी छुट्टियां चल रहीं है बस ट्यूशन जाता है ।”
द्वारका जी ने कहा।
तमाम बातें होती रहीं। बेल बजी। इंदिरा जी खोल़ने गईं दरवाजा । शुभ आया था पढ़कर।उसके माथे और हाथ पर चोट थी हल्की सी।
इंदिरा जी ने घबरा कर कहा ” ये सब क्या है सुब्बू?”
कुछ नहीं दादी ..ट्यूशन जाते समय एक बुढ्ढा आदमी गाङी से टकरा गया .. मेरा बैलेंस बिगङ गया और मैं गिर गया । जिससे चोट लग गई।”
शुभ ने दादी को कुछ रोष भरी आवाज में बताया ।

“कैसे कैसे बुढ्ढे होते हैं । सङक पर चलना आता नहीं निकल पङते हैं। अरे घर पर आराम क्यों नहीं करते ।कुछ हो जाता बच्चे को तो”
इंदिरा जी शुभ को लेकर जोर जोर से गुस्से में बङबङाते हुए अंदर घुसीं।
उधर
मिथलेश जी सब कुछ सुनकर दोहरी मानसिकता के फैर से हैरान।
अंदर घुसते हुए शुभ की नजर मिथिलेश जी पर पङी और वो चौंक कर नजरें बचाता अंदर घुसा चला जाता है।।। ”

अंकिता

Language: Hindi
5 Comments · 283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पहले एक बात कही जाती थी
पहले एक बात कही जाती थी
DrLakshman Jha Parimal
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
आर.एस. 'प्रीतम'
"पकौड़ियों की फ़रमाइश" ---(हास्य रचना)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
manjula chauhan
"अपनी माँ की कोख"
Dr. Kishan tandon kranti
हम तुम्हें लिखना
हम तुम्हें लिखना
Dr fauzia Naseem shad
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ढलती हुई दीवार ।
ढलती हुई दीवार ।
Manisha Manjari
"अस्थिरं जीवितं लोके अस्थिरे धनयौवने |
Mukul Koushik
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
छोड़ दो
छोड़ दो
Pratibha Pandey
2571.पूर्णिका
2571.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तेरे बाद
तेरे बाद
Surinder blackpen
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन चक्र
जीवन चक्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
#संस्मरण
#संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही
वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही
'अशांत' शेखर
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और  गृह स्
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और गृह स्
Sanjay ' शून्य'
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
*अखबारों में झूठ और सच, सबको सौ-सौ बार मिला (हिंदी गजल)*
*अखबारों में झूठ और सच, सबको सौ-सौ बार मिला (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
हट जा भाल से रेखा
हट जा भाल से रेखा
Suryakant Dwivedi
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
तेरे प्यार के राहों के पथ में
तेरे प्यार के राहों के पथ में
singh kunwar sarvendra vikram
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
Sukoon
आओ ...
आओ ...
Dr Manju Saini
भेड़ चालों का रटन हुआ
भेड़ चालों का रटन हुआ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...