Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2022 · 1 min read

अहा!नव सृजन की भोर है

हर्ष , उल्लास चहुंओर है
अहा!नव सृजन की भोर है

कोहरे में डूबती फिजाएं
बदली और ये सर्द हवाएं
शर्माकर जलते हुए आग
मक्के की रोटी और साग

चमकता सूरज चितचोर है
अहा!नव सृजन की भोर है

पूरे वर्ष का आडिट कर लें
अपने कर्मों की नज़र ले
हो सके तो माफ़ कर लें
दिल के गुबार साफ कर लें

हैप्पी न्यू ईयर का शोर है
अहा!नव सृजन की भोर है ।

नूर फातिमा खातून” नूरी”
जिला कुशीनगर

Language: Hindi
1 Like · 319 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जीवन संवाद
जीवन संवाद
Shyam Sundar Subramanian
ख़ुदी के लिए
ख़ुदी के लिए
Dr fauzia Naseem shad
"लाठी"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
Neelam Sharma
*आज का संदेश*
*आज का संदेश*
*Author प्रणय प्रभात*
कवि एवं वासंतिक ऋतु छवि / मुसाफ़िर बैठा
कवि एवं वासंतिक ऋतु छवि / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
विरक्ति
विरक्ति
swati katiyar
चंदा मामा (बाल कविता)
चंदा मामा (बाल कविता)
Dr. Kishan Karigar
दोहा- सरस्वती
दोहा- सरस्वती
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
💐प्रेम कौतुक-317💐
💐प्रेम कौतुक-317💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Dr Parveen Thakur
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
धर्म के रचैया श्याम,नाग के नथैया श्याम
धर्म के रचैया श्याम,नाग के नथैया श्याम
कृष्णकांत गुर्जर
काग़ज़ ना कोई क़लम,
काग़ज़ ना कोई क़लम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हमारा भारतीय तिरंगा
हमारा भारतीय तिरंगा
Neeraj Agarwal
You do NOT need to take big risks to be successful.
You do NOT need to take big risks to be successful.
पूर्वार्थ
शिव स्तुति
शिव स्तुति
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मुझको मालूम है तुमको क्यों है मुझसे मोहब्बत
मुझको मालूम है तुमको क्यों है मुझसे मोहब्बत
gurudeenverma198
Kagaj ke chand tukado ko , maine apna alfaj bana liya .
Kagaj ke chand tukado ko , maine apna alfaj bana liya .
Sakshi Tripathi
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
Paras Nath Jha
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
* प्यार की बातें *
* प्यार की बातें *
surenderpal vaidya
मन उसको ही पूजता, उसको ही नित ध्याय।
मन उसको ही पूजता, उसको ही नित ध्याय।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
Anand Kumar
#दोहे
#दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
2793. *पूर्णिका*
2793. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
Shashi kala vyas
@घर में पेड़ पौधे@
@घर में पेड़ पौधे@
DR ARUN KUMAR SHASTRI
“जहां गलती ना हो, वहाँ झुको मत
“जहां गलती ना हो, वहाँ झुको मत
शेखर सिंह
Loading...