Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jan 2023 · 1 min read

अहद

अहद
=========
“आप कहें तो हम,”जानेंसार” कर दें ।
मगर जिंदगी में,”वफा” भी कहाँ दें!!
ग़म तो ये है कि वो”अहदे”वफा टूट गया ।
बेवफा कोई भी हो,”तुम”न सही हम सही ।।
आप कहें तो वो, सबकुछ भुला दें ।
मगर जिंदगी में “वफा “भी कहाँ दें ।।
आप मुस्काये हम तो,”जिंदगी” लूटा दें ।
चलो जिंदगी को, “मोहब्बत” बना दें ।।
जिंदगी के सारे “शिकवे”पल में भूला दें।
वफा पर वफा हम कैसे लूटा दें”।।==========================
प्रतिभा कुमारी- गया ✍️

Language: Hindi
Tag: गीत
327 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2879.*पूर्णिका*
2879.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेटी हूँ माँ तेरी
बेटी हूँ माँ तेरी
Deepesh purohit
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
Pushpraj Anant
पहला प्यार नहीं बदला...!!
पहला प्यार नहीं बदला...!!
Ravi Betulwala
कोरे कागज़ पर
कोरे कागज़ पर
हिमांशु Kulshrestha
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
Ajay Kumar Vimal
"शतरंज के मोहरे"
Dr. Kishan tandon kranti
जो होता है आज ही होता है
जो होता है आज ही होता है
लक्ष्मी सिंह
*बस यह समझो बॅंधा कमर पर, सबके टाइम-बम है (हिंदी गजल)*
*बस यह समझो बॅंधा कमर पर, सबके टाइम-बम है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
■ नेशनल ओलंपियाड
■ नेशनल ओलंपियाड
*Author प्रणय प्रभात*
inner voice!
inner voice!
कविता झा ‘गीत’
मउगी चला देले कुछउ उठा के
मउगी चला देले कुछउ उठा के
आकाश महेशपुरी
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
Satish Srijan
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
तुम हज़ार बातें कह लो, मैं बुरा न मानूंगा,
तुम हज़ार बातें कह लो, मैं बुरा न मानूंगा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
हरिगीतिका छंद
हरिगीतिका छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
Anand Kumar
* खिल उठती चंपा *
* खिल उठती चंपा *
surenderpal vaidya
कविता
कविता
Shiva Awasthi
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
पूर्वार्थ
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ
देवतुल्य है भाई मेरा
देवतुल्य है भाई मेरा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🚩 वैराग्य
🚩 वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Stay grounded
Stay grounded
Bidyadhar Mantry
दुआएं
दुआएं
Santosh Shrivastava
आंगन को तरसता एक घर ....
आंगन को तरसता एक घर ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...