Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2017 · 1 min read

अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन

मर न जगमय मौत,हँस गह अमऱता का ज्ञान कन।
जूझ मत, यह जिंदगी, सचमुच सजग आनंद पन।
मुसकराना सीखकर भय मुक्त बन, लेकिन कभी,
अहं का अंकुर न फूटे , बनों चित् मय प्राण धन।

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

चित् =आत्मा
प्राण =जीवन

459 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
तेरी मेरी तस्वीर
तेरी मेरी तस्वीर
Neeraj Agarwal
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
अरमान गिर पड़े थे राहों में
अरमान गिर पड़े थे राहों में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
एक खाली बर्तन,
एक खाली बर्तन,
नेताम आर सी
पत्रकार
पत्रकार
Kanchan Khanna
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
मिट्टी का बस एक दिया हूँ
Chunnu Lal Gupta
अब न तुमसे बात होगी...
अब न तुमसे बात होगी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
👌फार्मूला👌
👌फार्मूला👌
*Author प्रणय प्रभात*
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पाप बढ़ा वसुधा पर भीषण, हस्त कृपाण  कटार  धरो माँ।
पाप बढ़ा वसुधा पर भीषण, हस्त कृपाण कटार धरो माँ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
Shweta Soni
आ रे बादल काले बादल
आ रे बादल काले बादल
goutam shaw
शिकवा
शिकवा
अखिलेश 'अखिल'
Just like a lonely star, I am staying here visible but far.
Just like a lonely star, I am staying here visible but far.
Manisha Manjari
मायका वर्सेज ससुराल
मायका वर्सेज ससुराल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक बछड़े को देखकर
एक बछड़े को देखकर
Punam Pande
मुश्किल से मुश्किल हालातों से
मुश्किल से मुश्किल हालातों से
Vaishaligoel
"चलना"
Dr. Kishan tandon kranti
और ज़रा-सा ज़ोर लगा
और ज़रा-सा ज़ोर लगा
Shekhar Chandra Mitra
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
ruby kumari
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
आंधी है नए गांधी
आंधी है नए गांधी
Sanjay ' शून्य'
“बिरहनी की तड़प”
“बिरहनी की तड़प”
DrLakshman Jha Parimal
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
ओनिका सेतिया 'अनु '
सीरत
सीरत
Shutisha Rajput
कुंती कान्हा से कहा,
कुंती कान्हा से कहा,
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-241💐
💐प्रेम कौतुक-241💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जल बचाओ, ना बहाओ।
जल बचाओ, ना बहाओ।
Buddha Prakash
Loading...