Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Aug 2019 · 1 min read

असल हूं असल दिखता हूं

असल हूं असल दिखता हूं
सरल हूं सरल लिखता हूं

रोज देखता हूं अतरंगी दुनिया कभी हंसता कभी रोता हूं
अपने जीवन के अनुभवों को बना मोती कविता की माला में पिरोता हूं

सोचता नहीं हूं ज्यादा बस ख्यालों को बहने देता हूं
ढूंढता नहीं हूं शब्द कठिन अपनी बात बस भावों को कहने देता हूं

सजीले वाक्यों से कहां मेरा मेल है
मेरी कविता तो बस सादगी का खेल है

दिलों को आपके छू सकूं इसी कोशिश में रहता हूं
पानी का रंग हूं पानी की तरह ही बहता हूं

बड़े बड़े शब्दों से मेरा नाता नहीं
जो मन में आता मैं तो लिखता वही

क्योंकि

असल हूं असल दिखता हूं
सरल हूं सरल लिखता हूं

Language: Hindi
398 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
...........,,
...........,,
शेखर सिंह
लड़कियां गोरी हो, काली हो, चाहे साँवली हो,
लड़कियां गोरी हो, काली हो, चाहे साँवली हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
खेल सारा सोच का है, हार हो या जीत हो।
खेल सारा सोच का है, हार हो या जीत हो।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
Suryakant Dwivedi
विध्वंस का शैतान
विध्वंस का शैतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
In the middle of the sunflower farm
In the middle of the sunflower farm
Sidhartha Mishra
*
*"अवध में राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
मां
मां
Sûrëkhâ
*इश्क़ से इश्क़*
*इश्क़ से इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
3216.*पूर्णिका*
3216.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं  तेरी  पनाहों   में  क़ज़ा  ढूंड  रही   हूँ ,
मैं तेरी पनाहों में क़ज़ा ढूंड रही हूँ ,
Neelofar Khan
"जरा सोचिए"
Dr. Kishan tandon kranti
ओ जोगी ध्यान से सुन अब तुझको मे बतलाता हूँ।
ओ जोगी ध्यान से सुन अब तुझको मे बतलाता हूँ।
Anil chobisa
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
Taj Mohammad
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
कवि रमेशराज
चश्मा,,,❤️❤️
चश्मा,,,❤️❤️
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*ऐसा स्वदेश है मेरा*
*ऐसा स्वदेश है मेरा*
Harminder Kaur
*विद्या  विनय  के  साथ  हो,  माँ शारदे वर दो*
*विद्या विनय के साथ हो, माँ शारदे वर दो*
Ravi Prakash
18)”योद्धा”
18)”योद्धा”
Sapna Arora
!!! नानी जी !!!
!!! नानी जी !!!
जगदीश लववंशी
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
■ संजीदगी : एक ख़ासियत
■ संजीदगी : एक ख़ासियत
*प्रणय प्रभात*
हमें पता है कि तुम बुलाओगे नहीं
हमें पता है कि तुम बुलाओगे नहीं
VINOD CHAUHAN
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
Loading...