Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2023 · 1 min read

असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )

असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद
देता खुलकर सौ दफा , डोंगे जी को दाद
डोंगे जी को दाद , पैर को छूना आता
चप्पल लाता ढ़ूँढ ,दौड़कर फिर पहनाता
कहते रवि कविराय, तोड़ता हड्डी-पसली
डोंगे का सब माल, लूटता चमचा असली
“””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

270 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
दिल के टुकड़े
दिल के टुकड़े
Surinder blackpen
सधे कदम
सधे कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
शेखर सिंह
प्रेम हैं अनन्त उनमें
प्रेम हैं अनन्त उनमें
The_dk_poetry
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यह आखिरी खत है हमारा
यह आखिरी खत है हमारा
gurudeenverma198
फागुन का बस नाम है, असली चैत महान (कुंडलिया)
फागुन का बस नाम है, असली चैत महान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
Er. Sanjay Shrivastava
"अवसाद का रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
दृष्टिकोण
दृष्टिकोण
Dhirendra Singh
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
Varun Singh Gautam
"परखना सीख जाओगे "
Slok maurya "umang"
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शायद हम ज़िन्दगी के
शायद हम ज़िन्दगी के
Dr fauzia Naseem shad
दिनांक - २१/५/२०२३
दिनांक - २१/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नेह का दीपक
नेह का दीपक
Arti Bhadauria
""बहुत दिनों से दूर थे तुमसे _
Rajesh vyas
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
शिक्षक की भूमिका
शिक्षक की भूमिका
Rajni kapoor
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है
लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है
Ranjeet kumar patre
2259.
2259.
Dr.Khedu Bharti
***
*** " मन मेरा क्यों उदास है....? " ***
VEDANTA PATEL
बहती नदी का करिश्मा देखो,
बहती नदी का करिश्मा देखो,
Buddha Prakash
नये पुराने लोगों के समिश्रण से ही एक नयी दुनियाँ की सृष्टि ह
नये पुराने लोगों के समिश्रण से ही एक नयी दुनियाँ की सृष्टि ह
DrLakshman Jha Parimal
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
Omprakash Sharma
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...