Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2023 · 1 min read

असर

निग़ाहे नाज़ का ये असर है
जिससे तू बे-ख़बर है ,
दीवाना बना दे ज़माने को
ऐसी तेरी नजर है ,

चश्मे साग़र से पिला
मदहोश कर देती हो ,
अपनी बेसाख़्ता मुस्कान से
बिजली गिरा देती हो ,

जिस राह से गुज़र जाओ
क़यामत बरपा देती हो ,
अपनी शोख अदाओं से दिल
घायल कर देती हो ,

शु’आ’ -ए- हुस्न से माहौल
रोशन कर देती हो ,
अपने अंदाज़े बयां से दिल में
जगह बना लेती हो ,

तेरे दीवाने तेरे इक इशारे पर
क़ुर्बान हो जाएं ,
तेरी चाहत में हद से गुज़र
फ़ना हो जाएं ।

1 Like · 157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
कीमती
कीमती
Naushaba Suriya
समरथ को नही दोष गोसाई
समरथ को नही दोष गोसाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
नीम करोरी वारे बाबा की, महिमा बडी अनन्त।
Omprakash Sharma
✍️ शेखर सिंह
✍️ शेखर सिंह
शेखर सिंह
*सजती हाथों में हिना, मना तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
*सजती हाथों में हिना, मना तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
"आम्रपाली"
Dr. Kishan tandon kranti
"घर की नीम बहुत याद आती है"
Ekta chitrangini
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
लक्ष्मी सिंह
Global climatic change and it's impact on Human life
Global climatic change and it's impact on Human life
Shyam Sundar Subramanian
बेवफा
बेवफा
नेताम आर सी
कदम जब बढ़ रहे
कदम जब बढ़ रहे
surenderpal vaidya
मैं उड़ना चाहती हूं
मैं उड़ना चाहती हूं
Shekhar Chandra Mitra
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
Dr Archana Gupta
रखा जाता तो खुद ही रख लेते...
रखा जाता तो खुद ही रख लेते...
कवि दीपक बवेजा
पढ़ो और पढ़ाओ
पढ़ो और पढ़ाओ
VINOD CHAUHAN
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
Atul "Krishn"
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ना जाने क्यों ?
ना जाने क्यों ?
Ramswaroop Dinkar
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्यारा भारत देश है
प्यारा भारत देश है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
2970.*पूर्णिका*
2970.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भाव में शब्द में हम पिरो लें तुम्हें
भाव में शब्द में हम पिरो लें तुम्हें
Shweta Soni
#प्रणय_गीत:-
#प्रणय_गीत:-
*प्रणय प्रभात*
02/05/2024
02/05/2024
Satyaveer vaishnav
मारुति
मारुति
Kavita Chouhan
गीत.......✍️
गीत.......✍️
SZUBAIR KHAN KHAN
आओ चले अब बुद्ध की ओर
आओ चले अब बुद्ध की ओर
Buddha Prakash
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
पूर्वार्थ
Loading...