Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2023 · 3 min read

अवसाद का इलाज़

डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

* अवसाद का इलाज़ *

इंसानी जीवन में मात्र एक पक्का भरोसे मंद दोस्त ही होता है हर समस्या का समाधान , तन से मन से धन से जो हमेशा बचपन से साथ होता है जिनका है वो भाग्य शाली हैं और जिनका नहीं वो उसको हरएक में पाने की अथक कोशिश करते नजर आते हैं सदा महिला हो या पुरुष सभी की यही कहानी है । तो मित्रों मेरी मेरी कहानी के शीर्षक के पीछे ऐसा ही एक शख्स छुपा है जिसको हम * दोस्त * नाम से पुकारते हैं ।
रमेश मेरा ऐसा ही मित्र , दोस्त साथी था कक्षा 5 से हम एक ही शहर में रहते थे । जीवन के एक मोड़ पर वो ऐसी पारिवारिक दुविधा में फंस गया कि उसको कुछ समझ नहीं आता था । और वो उसका छुटकारा पाने की इच्छा से नशे की आदत का शिकार हो गया । काम काज के सिलसिले में हम रोज – रोज तो मिल नहीं पाते थे । फिर भी महीने पंद्रह दिन में हम एक दूसरे के घर अवश्य जाते थे साथ – साथ पिक्चर देखना , पिकनिक पे जाना या घर पे ही रात्री भोजन इत्यादि यही हमारी दिन चर्या थी । किसी भी तरह का कोई सामाजिक धार्मिक कृत्य हो हम सपरिवार सब एकत्र होते या जाते थे । समाज में हम राम लक्ष्मण की जोड़ी के नाम से प्रसिद्ध थे । हमारे परिवार के अन्य सभी लोग दूर दराज के शहरों में रहने के कारण हमारा दोस्ती का ये संबंध ही सब कुछ था ।
तो इस बार 15 दिन के बाद मैं जब परिवार सहित रमेश के घर गया तो उसके घर का वातावरण देख अचंभित रह गया । पत्नी को बोला जरा संगीत (रमेश की पत्नी ) से पता कर क्या हुआ । तब तक रमेश नहीं आया था आमतौर पे वो 8 बजे आ जाता था मगर , अब परिस्थिति भिन्न थी । पत्नी ने जब अकेले में संगीत से बात की तो वो फफक – फफक के रोने लागी । फिर सारी कहानी समझ आई । उसका सार ये था । महत्व कांक्षा के चलते , रमेश ने दो साल पहले एक प्राइवेट बैंक से 10 लाख रुपये का ऋण लिया था जिसका भुगतान उसको 2 साल के भीतर ब्याज सहित कर देना था जो हो न सका लोन के बदले रेहन के लिए घर गिरवी रखा था । अब बैंक ने उसके घर की कुर्की का नोटिस भेजा था यदि 10 दिन मे लोन की पूरी रकम नहीं लोटाई तो बैंक घर नीलाम कर के ऋण की अदायगी करेगा । रमेश ने लज्जा के कारण ये बात मुझ से छुपाई । और ना समझदारी के चलते वो उसका हाल नशे में परिवार से दूर रह कर तलाशने लगा – जो की उसकी सबसे बड़ी भूल थी ।
मैंने रमेश को फोन लगाया तो फोन किसी अनजान व्यक्ति जो की बार का संचालक था , ने उठाया बोला के ये साहब बार में नशे की हालत में अर्ध बेहोशी में पड़े हैं ऐसा रोज होता है तो हमने ज्यादा तव्वजों नहीं दी । मैं तुरंत गाड़ी से वहाँ गया और रमेश को लेकर घर आया , सबने मिल कर उसको नहला धुला कर उसके वस्त्र बदले तो वो कुछ होश में आया मुझे पहचान कर माफी मांगने लगा । हम सबने बैठ कर एक साथ भोजन किया । चलते समय मैंने रमेश को बोला यार कल मेरे घर पे आना एक जरूरी काम है वो बोला अच्छा । फिर हम वहाँ से वापिस या गए ।
सुबह 9 बजे जब रमेश मेरे घर आया तो देखा उसकी काया पहले जैसी नहीं रह गई थी मात्र 15 दिन में बीमार – बीमार सा लगने लगा था – आँखों के नीचे स्याह गड्ढे , गले की नसें नजर आने लगी थी । मेरा यार कितना बदल गया था । हम दोनों ने साथ बैठ कर नाश्ता किया फिर हम उसको लेके उसके बैंक गए । बैंक मेनेजर मेरा दोस्त था । उसको मैंने लिखित में रमेश के ऋण की 6 माह में किश्तों में अदायगी का आश्वासन दिया । रमेश चुपचाप देखता रहा । वो मुझे अच्छी तरह से जानता था सो कुछ नहीं बोला। बस मेरे हाथ पकड़ के बैठ गया और आँखों – आँखों से अपनी कृतज्ञता प्रदर्शित करता रहा । फिर कान पकड़ के बोला आज से नशे को मुहँ नहीं लगाऊँगा मेरे यार मुझे माफ कर दे । मैंने चुपचाप उसको सीन से लगा । हमारे साथ – साथ बैंक मैनेजर की आंखे भी भीगने लगी थी फिर मैंने वातावरण को बदलने के लिए बोला यार रस्तोगी ( बैंक मेनेजर ) काफी नहीं पिलाओगे और हम सब जोर – जोर हंसने लगे ।

3 Likes · 444 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
*****आज़ादी*****
*****आज़ादी*****
Kavita Chouhan
मेघ, वर्षा और हरियाली
मेघ, वर्षा और हरियाली
Ritu Asooja
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
DrLakshman Jha Parimal
श्री गणेश वंदना:
श्री गणेश वंदना:
जगदीश शर्मा सहज
दुआ कबूल नहीं हुई है दर बदलते हुए
दुआ कबूल नहीं हुई है दर बदलते हुए
कवि दीपक बवेजा
मुक्तक- जर-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
मुक्तक- जर-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
3250.*पूर्णिका*
3250.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम लड़के हैं जनाब...
हम लड़के हैं जनाब...
पूर्वार्थ
"पहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
आंदोलन की जरूरत क्यों है
आंदोलन की जरूरत क्यों है
नेताम आर सी
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
Dr Tabassum Jahan
रंजिश हीं अब दिल में रखिए
रंजिश हीं अब दिल में रखिए
Shweta Soni
अपने ही  में उलझती जा रही हूँ,
अपने ही में उलझती जा रही हूँ,
Davina Amar Thakral
दोहे
दोहे
डॉक्टर रागिनी
नेमत, इबादत, मोहब्बत बेशुमार दे चुके हैं
नेमत, इबादत, मोहब्बत बेशुमार दे चुके हैं
हरवंश हृदय
है हिन्दी उत्पत्ति की,
है हिन्दी उत्पत्ति की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चालें बहुत शतरंज की
चालें बहुत शतरंज की
surenderpal vaidya
जलियांवाला बाग
जलियांवाला बाग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
Lokesh Singh
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
Ekta chitrangini
प्यासा पानी जानता,.
प्यासा पानी जानता,.
Vijay kumar Pandey
गुज़रे वक़्त ने छीन लिया था सब कुछ,
गुज़रे वक़्त ने छीन लिया था सब कुछ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
(9) डूब आया मैं लहरों में !
(9) डूब आया मैं लहरों में !
Kishore Nigam
मैं को तुम
मैं को तुम
Dr fauzia Naseem shad
आदिवासी कभी छल नहीं करते
आदिवासी कभी छल नहीं करते
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
चेहरे पर अगर मुस्कुराहट हो
चेहरे पर अगर मुस्कुराहट हो
Paras Nath Jha
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...