Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2022 · 1 min read

अरबों रुपए के पटाखे

एक रात में ही
भारत में
अरबों रूपए के
पटाखे छोड़ दिए जाते हैं
यानि कि
हर दीवाली को
इस देश का
दिवाला निकल जाता है।
Shekhar Chandra Mitra
#Corruption #politics #election
#महंगाई #pollution #Diwali

206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
Neelam Sharma
जय भवानी, जय शिवाजी!
जय भवानी, जय शिवाजी!
Kanchan Alok Malu
* अपना निलय मयखाना हुआ *
* अपना निलय मयखाना हुआ *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तेरी सख़्तियों के पीछे
तेरी सख़्तियों के पीछे
ruby kumari
प्रेम
प्रेम
Rashmi Sanjay
मदमती
मदमती
Pratibha Pandey
Dil toot jaayein chalega
Dil toot jaayein chalega
Prathmesh Yelne
✍️माँ ✍️
✍️माँ ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
खुदसे ही लड़ रहे हैं।
खुदसे ही लड़ रहे हैं।
Taj Mohammad
💃युवती💃
💃युवती💃
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
"सचमुच"
Dr. Kishan tandon kranti
तलाशता हूँ -
तलाशता हूँ - "प्रणय यात्रा" के निशाँ  
Atul "Krishn"
"मेरी जिम्मेदारी "
Pushpraj Anant
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
Soniya Goswami
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खूबसूरत है किसी की कहानी का मुख्य किरदार होना
खूबसूरत है किसी की कहानी का मुख्य किरदार होना
पूर्वार्थ
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
नव-निवेदन
नव-निवेदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
क्रिसमस से नये साल तक धूम
क्रिसमस से नये साल तक धूम
Neeraj Agarwal
पुरुष चाहे जितनी बेहतरीन पोस्ट कर दे
पुरुष चाहे जितनी बेहतरीन पोस्ट कर दे
शेखर सिंह
खुद को अपडेट करो - संघर्ष ही लाता है नया वर्ष।
खुद को अपडेट करो - संघर्ष ही लाता है नया वर्ष।
Rj Anand Prajapati
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर  वार ।
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर वार ।
sushil sarna
'एक कप चाय' की कीमत
'एक कप चाय' की कीमत
Karishma Shah
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
"बूढ़ा" तो एक दिन
*Author प्रणय प्रभात*
लाश लिए फिरता हूं
लाश लिए फिरता हूं
Ravi Ghayal
फितरत
फितरत
Sukoon
2394.पूर्णिका
2394.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरे राम
मेरे राम
Ajay Mishra
Loading...