Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

*अयोध्या के कण-कण में राम*

अयोध्या के कण-कण में राम।
सच मानों तो अयोध्या के
जन-जन में राम।
भावना यदि सच्ची हो तो
हृदय में ही बसे हैं श्रीराम।
अयोध्या के कण-कण में बसे हैं राम।
हनुमान जी के प्रिय हैं श्रीराम।
शबरी, सुग्रीव सभी को गले लगाते राम।
माता जानकी की रक्षा के लिए ,
ले लिए रावण के प्राण।
समुद्र पर सेतु बना लंका जीत
अयोध्या लौटे श्रीराम।
वर्षों का सपना पूरा हुआ
भव्य मंदिर में प्रतिष्ठित होंगे श्रीराम।
संग सिया और लक्ष्मण होंगे ,साथ में
सेवक हनुमान।
बोलो जय श्रीराम, जय श्रीराम।

वंदना ठाकुर

तलवाड़ा (होशियारपुर)
पंजाब

Language: English
Tag: Poem
1 Like · 67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ बातें पुरानी
कुछ बातें पुरानी
PRATIK JANGID
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
Vivek Mishra
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
दरोगा तेरा पेट
दरोगा तेरा पेट
Satish Srijan
हिंदी दोहा शब्द - भेद
हिंदी दोहा शब्द - भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"अन्दाज"
Dr. Kishan tandon kranti
2717.*पूर्णिका*
2717.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संस्कारों के बीज
संस्कारों के बीज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिस कदर उम्र का आना जाना है
जिस कदर उम्र का आना जाना है
Harminder Kaur
आशिकी
आशिकी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
काश वो होते मेरे अंगना में
काश वो होते मेरे अंगना में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
एक फूल....
एक फूल....
Awadhesh Kumar Singh
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
साथ
साथ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कुछ भी रहता नहीं है
कुछ भी रहता नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
अर्थ  उपार्जन के लिए,
अर्थ उपार्जन के लिए,
sushil sarna
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
कवि रमेशराज
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
शेखर सिंह
अद्वितीय संवाद
अद्वितीय संवाद
Monika Verma
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
DrLakshman Jha Parimal
* मिल बढ़ो आगे *
* मिल बढ़ो आगे *
surenderpal vaidya
*कलम (बाल कविता)*
*कलम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
!! वीणा के तार !!
!! वीणा के तार !!
Chunnu Lal Gupta
नवरात्रि के चौथे दिन देवी दुर्गा के कूष्मांडा स्वरूप की पूजा
नवरात्रि के चौथे दिन देवी दुर्गा के कूष्मांडा स्वरूप की पूजा
Shashi kala vyas
केवट का भाग्य
केवट का भाग्य
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
#प्रेरक_प्रसंग
#प्रेरक_प्रसंग
*Author प्रणय प्रभात*
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
सत्य कुमार प्रेमी
माँ काली साक्षात
माँ काली साक्षात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...