Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

*अम्मा*

अम्मा
नौ महिना तक कोख म राखि,
सहै दुख लाल जिआबति अम्मा।
दूध पिआइ दुलारय खूब,
धरे निज गोद झुलाबति अम्मा।।
कालहुँ से न डरै लड़ि जाय,
बलाय बिपत्ति भगाबति अम्मा।
लाल भले दुख देय हजार,
न लाल क काल मनाबति अम्मा।।
अशोक त्रिपाठी “माधव”

169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*प्रभु का संग परम सुखदाई (चौपाइयॉं)*
*प्रभु का संग परम सुखदाई (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आ बढ़ चलें मंजिल की ओर....!
आ बढ़ चलें मंजिल की ओर....!
VEDANTA PATEL
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
Aarti sirsat
शब्द क्यूं गहे गए
शब्द क्यूं गहे गए
Shweta Soni
अनुसंधान
अनुसंधान
AJAY AMITABH SUMAN
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" मुशाफिर हूँ "
Pushpraj Anant
2692.*पूर्णिका*
2692.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"पैमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
*फल*
*फल*
Dushyant Kumar
माँ की दुआ इस जगत में सबसे बड़ी शक्ति है।
माँ की दुआ इस जगत में सबसे बड़ी शक्ति है।
लक्ष्मी सिंह
याद रहे कि
याद रहे कि
*Author प्रणय प्रभात*
रंगीला संवरिया
रंगीला संवरिया
Arvina
" नम पलकों की कोर "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
स्वयं का बैरी
स्वयं का बैरी
Dr fauzia Naseem shad
समय यात्रा संभावना -एक विचार
समय यात्रा संभावना -एक विचार
Shyam Sundar Subramanian
// जय श्रीराम //
// जय श्रीराम //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
(12) भूख
(12) भूख
Kishore Nigam
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
हम जो कहेंगे-सच कहेंगे
हम जो कहेंगे-सच कहेंगे
Shekhar Chandra Mitra
कैलेंडर नया पुराना
कैलेंडर नया पुराना
Dr MusafiR BaithA
मजदूर की मजबूरियाँ ,
मजदूर की मजबूरियाँ ,
sushil sarna
दम तोड़ते अहसास।
दम तोड़ते अहसास।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...