Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Dec 2023 · 1 min read

अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं

अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
दूध साँपों को जो पिलाते हैं

सोच का दायरा बढ़ाते हैं
एक होकर सभी दिखाते हैं

दिल तड़पता है किस कदर मां का
घर में दीवार हम उठाते हैं

ज़ुल्फ़ हर फूल को नहीं मिलती
कितने शाखों पे सूख जाते हैं

ये तो बच्चों की मेहरबानी है
लोग मुझ को जवाँ बताते हैं

चाँद को कौन तोड़ पाया है?
क्यों वह पागल हमें बनाते हैं

वो तो ख़ुद दाग़दार हैं ‘अरशद’
जो हमें आइना दिखाते हैं

– अरशद रसूल बदायूंनी

122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ईमानदारी
ईमानदारी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"चोट्टे की दाढ़ी में झाड़ू की सींक
*Author प्रणय प्रभात*
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
शेखर सिंह
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
Sampada
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जीवन और रंग
जीवन और रंग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कछु मतिहीन भए करतारी,
कछु मतिहीन भए करतारी,
Arvind trivedi
सामाजिक कविता: पाना क्या?
सामाजिक कविता: पाना क्या?
Rajesh Kumar Arjun
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
आहत हूॅ
आहत हूॅ
Dinesh Kumar Gangwar
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
इंद्रदेव की बेरुखी
इंद्रदेव की बेरुखी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मां!क्या यह जीवन है?
मां!क्या यह जीवन है?
Mohan Pandey
मां शैलपुत्री देवी
मां शैलपुत्री देवी
Harminder Kaur
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
SURYA PRAKASH SHARMA
खो गईं।
खो गईं।
Roshni Sharma
Yashmehra
Yashmehra
Yash mehra
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
पति
पति
लक्ष्मी सिंह
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
कवि दीपक बवेजा
कमाण्डो
कमाण्डो
Dr. Kishan tandon kranti
* एक कटोरी में पानी ले ,चिड़ियों को पिलवाओ जी【हिंदी गजल/गीतिक
* एक कटोरी में पानी ले ,चिड़ियों को पिलवाओ जी【हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
उधार वो किसी का रखते नहीं,
उधार वो किसी का रखते नहीं,
Vishal babu (vishu)
अन्तर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस
अन्तर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस
Bodhisatva kastooriya
Loading...