Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2023 · 4 min read

*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*

अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)

हुआ यह है कि जब हमारा कविताओं वाला लोहे का संदूक भर गया तो हमने सोचा कि इसे खाली किया जाए और कविताओं को किसी प्रकाशक को बेचकर कुछ पैसे कमाने का जुगाड़ किया जाए। श्रीमती जी संदूक खाली करने के विचार से उत्साहित थीं ,लेकिन कविताओं की बिक्री के प्रश्न पर उनका कहना था ” तुम अपनी कविताओं को बेचने जाओगे या खरीदने ? ”
हमने पूछा “क्या मतलब ? ” वह कहने लगीं ” पहेलियां मत बुझाओ । लड़की की शादी में मैं दहेज के इंतजाम में जुटी हूँ। लड़का उच्च शिक्षा के लिए फीस भरने के बारे में दिन-रात सोचकर दुबला हो रहा है। और तुम्हें अपनी कविताओं की किताब छपवाने की पड़ी है । प्रकाशक तुम्हें पैसे नहीं देगा बल्कि उल्टे किताब छापने के तुमसे पैसे वसूल करेगा । ”
हमने कहा “अब राजा – महाराजाओं का युग तो रहा नहीं ,अन्यथा एक छंद पर एक सोने की अशर्फी राजदरबार में कवियों को मिला करती थी । अब अधिक नहीं तो चांदी का एक सिक्का एक छंद के बदले में मिलने की आशा मैं कर रहा हूं ।”
पत्नी मुस्कुराने लगीं। हम कविताओं को गिनने लगे । एक सौ कविताओं को हमने एक डोरे से बांधना शुरू किया । एक बंडल बन गया । इसी तरह हम बंडल बनाते गए। कुल मिलाकर पंद्रह बंडल बने अर्थात कविताओं की संख्या कुल पंद्रह सौ थी । अब हमने सारे बंडलों को मिलाकर एक महाबंडल बना दिया।
कविताओं का महाबंडल बहुत ज्यादा भारी नहीं था । आसानी से हमने उसे अपने दोनों हाथों पर उठा लिया । घर से निकले। रिक्शा पर बैठे और रिक्शा वाले से कहा “पीछे की सीट पर किसी को मत बिठाना। हमारे पास कीमती वस्तु है ।”
रिक्शा वाले ने उपदेशात्मक लहजे में जवाब दिया “कीमती चीजें जेब में संभाल कर रखा करो ।आजकल जेबकतरे बहुत घूम रहे हैं ।”
हमने कहा “हम जेब की बात नहीं कर रहे हैं । हमारे हाथों में बेशकीमती संपदा है।”सुनकर रिक्शा वाले ने एक उड़ती हुई नजर कविताओं के महाबंडल की तरफ डाली और उदासीनता से रिक्शा आगे बढ़ाने लगा ।
समय की मार देखिए ,रिक्शा में पंचर हो गया और रिक्शा रुकी भी तो कल्लू कबाड़ी वाले की दुकान के ठीक सामने । हम अक्सर घर के अखबार कल्लू कबाड़ी वाले को लाकर बेच दिया करते थे । हमारे हाथ में कविताओं का महाबंडल देखते ही दूर से चीखा ” मास्टर जी ! आज अखबार के बदले यह कापियों की रद्दी कहां से ले आए ? इसका भाव छह रुपए किलो है । आपको सात रुपए किलो लगा दूंगा ।” सुनकर हमारे तन-बदन में आग लग गई ।
हमने कहा “तुम ठहरे दो हजार इक्कीस के हाईस्कूल पास ! तुम भला हिंदी साहित्य की अमूल्य निधि का मूल्य कैसे आँक सकते हो ? जिसे तुम रद्दी कह रहे हो ,वह सोना और चांदी है ।”
कल्लू कबाड़ी वाला हमारी बात का कोई मतलब नहीं समझा । वह दूसरे ग्राहकों से बात करने में व्यस्त हो गया । आजकल किसके पास समय है कि वह चीजों की गहराई में जाकर उन्हें समझता फिरे !
खैर , हमने दूसरी रिक्शा पकड़ी और प्रकाशक-मंडी में जाकर एक अच्छे प्रकाशक से उसकी दुकान पर बात की। प्रकाशक ने पूछा “कितनी कविताएं हैं ? ”
हमने कहा “पंद्रह सौ हैं।” वह बोला “पचास हजार का खर्चा आएगा।”
हमने पूछा “आप का खर्चा आएगा या हमारा खर्चा आएगा ? ”
प्रकाशक बोला “जब किताब आप छपवाएंगे तो आपका खर्चा आएगा । ”
हमने कहा “चलो , हम कॉपीराइट भी आपको बेच देंगे ।”
वह बोला ” उसको क्या शहद लगाकर चाटुँगा ? आजकल कविताएं कौन पढ़ता है ? चार किताबों के बाद कविता की पांचवी किताब नहीं बिकती । ”
हमारे सिर पर तो घड़ों पानी गिर गया। सारे सपने धरे के धरे रह गए । हमने रुँआसे होकर प्रकाशक से कहा “हमारी कविताएं हिंदी साहित्य की अमूल्य निधि हैं। आज भले ही इनका मूल्यांकन न हो पा रहा हो, लेकिन सौ -दो सौ साल के बाद कोई इनको समझने वाला जन्म लेगा और तब यह बहुमूल्य वस्तु के रूप में स्थापित होंगी।”
प्रकाशक ने व्यंग्य-पूर्वक मुस्कुराते हुए कहा “आप दो-तीन सौ साल की अपनी उम्र कर लीजिए। हो सकता है आपके जीवन काल में ही कोई काव्य- पारखी पैदा हो जाए ।”
हमें बुरा तो बहुत लगा लेकिन संयम बरतते हुए हमने कहा “ठीक है ,तो हम चलते हैं । इतना रुपया तो हम खर्च नहीं कर सकते।”
प्रकाशक टोक कर बोला “एक राय दूं । बुरा मत मानना । ”
हमने जलते – भुनते हुए कहा “अब बुरा मानने को जिंदगी में रह ही क्या गया है ?”
उसने एक किताब अपनी अलमारी में से निकाली और हमसे कहा “रुपए कमाने के एक सौ सरल उपाय -नाम की यह पुस्तक आप मुझसे खरीद लीजिए । वैसे तो चार सौ रुपए की है लेकिन आपको पचास प्रतिशत डिस्काउंट पर मात्र दो सौ रुपए में बेच दूंगा ।”
हमने कहा “भाई साहब ! हम यहां कुछ कमाने के लिए आए थे और आप हमसे जाते-जाते दो सौ रुपए हमारी जेब से निकलवाना चाहते हैं ? यह हम से नहीं होगा।”
उसके बाद हम अपनी हिंदी साहित्य की अमूल्य निधि लेकर अपने घर वापस आ गए। देखा तो संदूक पर श्रीमती जी का कब्जा हो चुका था । उसमें उनकी साड़ियां बगैरह रखी थीं। हमने निवेदन किया ” संदूक में हम फिर से अपनी हिंदी साहित्य की अमूल्य निधि की पांडुलिपियों को सुरक्षित रखना चाहते हैं?”
वह बोली ” दस-बारह रुपए किलो में इसे बेच दो ,तो पिंड छुटे । वरना किसी दिन पूरे घर में दीमक लग जाएगी ।”
हम भीतर से रो रहे थे । हे भगवान !हमारी कविताएं क्या सचमुच दस-बारह रुपए किलो की रद्दी ही हैं ?
________________________________
लेखक : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

366 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
आदमी की आँख
आदमी की आँख
Dr. Kishan tandon kranti
2703.*पूर्णिका*
2703.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेवर
तेवर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
புறப்பாடு
புறப்பாடு
Shyam Sundar Subramanian
लौट  आते  नहीं  अगर  बुलाने   के   बाद
लौट आते नहीं अगर बुलाने के बाद
Anil Mishra Prahari
"उड़ान"
Yogendra Chaturwedi
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
मौसम तुझको देखते ,
मौसम तुझको देखते ,
sushil sarna
The stars are waiting for this adorable day.
The stars are waiting for this adorable day.
Sakshi Tripathi
फेसबुक
फेसबुक
Neelam Sharma
// प्रीत में //
// प्रीत में //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ अक्लमंदों के लिए।
■ अक्लमंदों के लिए।
*प्रणय प्रभात*
मातर मड़ई भाई दूज
मातर मड़ई भाई दूज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*मन  में  पर्वत  सी पीर है*
*मन में पर्वत सी पीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रमेशराज की कहमुकरियां
रमेशराज की कहमुकरियां
कवि रमेशराज
*अच्छा रहता कम ही खाना (बाल कविता)*
*अच्छा रहता कम ही खाना (बाल कविता)*
Ravi Prakash
।। निरर्थक शिकायतें ।।
।। निरर्थक शिकायतें ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कविता - छत्रछाया
कविता - छत्रछाया
Vibha Jain
जो संस्कार अपने क़ानून तोड़ देते है,
जो संस्कार अपने क़ानून तोड़ देते है,
शेखर सिंह
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
मंजिल की अब दूरी नही
मंजिल की अब दूरी नही
देवराज यादव
बेटा
बेटा
अनिल "आदर्श"
यायावर
यायावर
Satish Srijan
तुझसे परेशान हैं आज तुझको बसाने वाले
तुझसे परेशान हैं आज तुझको बसाने वाले
VINOD CHAUHAN
मैंने कभी भी अपने आप को इस भ्रम में नहीं रखा कि मेरी अनुपस्थ
मैंने कभी भी अपने आप को इस भ्रम में नहीं रखा कि मेरी अनुपस्थ
पूर्वार्थ
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*एकांत*
*एकांत*
जगदीश लववंशी
गम खास होते हैं
गम खास होते हैं
ruby kumari
हिंदू कौन?
हिंदू कौन?
Sanjay ' शून्य'
Loading...